गढ़वा : जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति दिशा की बैठक सोमवार को समाहरणालय के सभाकक्ष में हुई। समिति के पदेन अध्यक्ष सह सांसद वी डी राम की अध्यक्षता में आहूत इस बैठक में जिले में किए जा रहे विभिन्न विकास कार्यों की प्रगति की समीक्षा की गई तथा पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए। इसमें जन प्रतिनिधियों ने अपने अपने क्षेत्र से संबंधित मामलों को समिति के समक्ष रखा। जिस पर अध्यक्ष ने संबंधित विभाग के पदाधिकारी से जवाब तलब किया। सांसद सह समिति के अध्यक्ष वी डी राम ने कांडी के दो गांवों में विद्युतीकरण नहीं किए जाने का मामला उठाया। उन्होंने कहा कि प्रखंड के 23 गांव में 21 गांव का ही विद्युतीकरण हुआ है। भवनाथपुर विधायक भानु प्रताप शाही ने भी भवनाथपुर विधान सभा क्षेत्र के 42 गांवों का विद्युतीकरण नहीं किए जाने का मामला उठाया। साथ ही इसकी जांच कराने की मांग की गई। मेराल प्रमुख ने विद्युत विभाग द्वारा पोल खंभा संबंधित एजेंसी से गड़वाने की बजाय ग्रामीणों से गडवाने की बात कही। इस पर अध्यक्ष ने कार्यपालक अभियंता को ग्रामीणों को मजदूरी भुगतान करने या संबंधित एजेंसी पर कार्रवाई करने का निर्देश दिया। गढ़वा विधायक सत्येंद्र नाथ तिवारी ने कांडी के विभिन्न विद्यालयों में घटिया पोशाक की आपूर्ति किए जाने का मामला उठाया। उन्होंने कहा कि कांडी बीईईओ की ससुराल कांडी में ही है तथा प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी अपने साले के माध्यम से विभिन्न विद्यालयों में पोशाक की आपूर्ति कराते हैं। प्रखंड में बीईईओ की मिली भगत से पोशाक वितरण में भारी अनियमितता बरती जा रही है। इस पर डीसी ने कांडी बीडीओ को मामले की जांच कर कार्रवाई करने का आदेश दिया। साथ ही पोशाक की राशि छात्र-छात्राओं के खाते में डालने को कहा। ताकि लगाए गए कैंप से बच्चों के अभिभावक अपनी पसंद से पोशाक खरीद सकें। इसके अलावा बैठक में सदर अस्पताल में बिचौलिया के हावी होने, आउटसोर्शिंग के तहत कार्यरत कर्मयों के मानदेय में कटौती कर पेमेंट करने, केतार के परसोडीह पालनगर में घटिया जलमीनार का निर्माण करने, एबीसीएम द्वारा सिरहे, बेलचंपा, प्रतापपुर आदि गांवों में छाई फेंकने से लोगों का स्वास्थ्य प्रभावित होने, बालू राज्य के बाहर ले जाने, बालू लदे ट्रकों से अवैध वसूली करने आदि का मामला उठाया गया। इस पर सांसद ने संबंधित पदाधिकारियों को मामले की जांच कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया। बैठक में 14 वित्त से पंचायत सेवक द्वारा निर्धारित राशि से अधिक 11 लाख रुपये का काम कराने का मामला उठा। इस पर जिला पंचायत राज पदाधिकारी को कार्रवाई करने को कहा गया । विधायक भानू प्रताप शाही ने बैठक के दौरान महिला मुखिया पर कार्रवाई के पूर्व मानवीय संवेदना का ख्याल रखने का आग्रह किया। साथ ही कहा कि कि खरौंधी प्रखंड में एक भी किसानों को केसीसी ऋण नहीं दिए जाने का मामला उठाया। इस पर अध्यक्ष ने बैंकों से इससे संबंधित रिपोर्ट सौंपने को कहा। उन्होंने विधान सभा क्षेत्र में पीएचईडी की लापरवाही के कारण स्वीकृत 258 हैंडपंप के विरूद्ध मात्र 50 हैंडपंप लगाए जाने का मामला उठाया। साथ ही पीएम सड़क योजना के तहत खुटिया से भुमफोर सड़क निर्माण बंद होने पर नाराजगी जताई। इस पर सड़क निर्माण कर रही कंपनी इरकोन के प्रतिनिधि ने कहा कि फोरेस्ट से एनओसी नहीं मिलने के कारण काम रूका है। बैठक में एसी राधेश्याम प्रसाद, डीडीसी चंद्रमोहन कश्यप, गढ़वा नप अध्यक्ष ¨पकी केशरी, मझिआंव नप अध्यक्ष सुमित्रा देवी, नगर उंटारी नप अध्यक्ष विजयालक्ष्मी समेत विभिन्न विभागों के पदाधिकारी उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस