गढ़वा :

गायत्री परिवार, गढ़वा विकास मंच और युगांतर भारती के संयुक्त तत्वावधान में गुरुवार को गंगा दशहरा के अवसर पर नदी महोत्सव का आयोजन किया गया। इस अवसर पर पुलिस लाइन के समीप दानरो नदी तट पर नदी पूजन किया गया। इसमें उपस्थित स्वयंसेवकों एवं गायत्री परिवार के लोगों ने नदी संरक्षण और इसके प्रति लोगों को जागरूक करने का संकल्प लिया। दानरो नदी की पूजा कर हवन यज्ञ किया गया। कार्यक्रम का समापन आरती और संकल्प के साथ किया गया। गायत्री परिवार के परिव्राजक सन्तन मिश्र ने नदियों के महत्व और आज नदियों की दुर्दशा की स्थिति पर चर्चा करते हुए नदियों के संरक्षण पर जोर दिया। कहा कि वनस्पति जगत से लेकर समस्त जंतुओं के जीवन के लिए नदियों का ¨जदा रहना आवश्यक है। इसलिए हमारे ऋषियों ने प्रकृति के साथ संतुलन बनाये रखने की शिक्षा दी थी। लेकिन आज हम अपने स्वार्थ में पर्यावरण का अंधाधुंध दोहन कर संतुलन को बिगाड़ कर रख दिए हैं। कार्यक्रम में गढ़वा विकास मंच के अध्यक्ष सारिका ¨सह ने कहा कि नदियों से अंधाधुंध बालू निकाल कर नदियों का अस्तित्व मिटाया जा रहा है। दानरो नदी को बचाने के लिए गढ़वा विकास मंच, युगांतर भारती, और गायत्री परिवार के साथ मिलकर काम किया जाएगा। नदियों का संरक्षण जरूरी है। मंच के सचिव सुरेंद्र दुबे ने कहा कि नदियों को बचाने के लिए जनजागरूकता की जरूरत है। जनक विकास धारा के रामशंकर चौबे ने कहा कि पानी, जंगल और नदियों को बचाने के लिए सबको मिलकर काम करने की आवश्यकता है। कार्यक्रम में मुख्य यजमान के रूप में गायत्री परिवार महिला मंडल की जिला प्रभारी शोभा पाठक ने पूजन किया। इस मौके पर गायत्री परिवार के बनारसी पांडेय, राजेश ठाकुर, मिथिलेश कुशवाहा,  वृंदा ठाकुर, अखिलेश कुशवाहा, प्रभुदयाल प्रजापति, अरुण पांडेय, अनिल विश्वकर्मा, रणजीत केशरी, अनिता देवी, नीलम कुमारी, सुनंदा दुबे, ममता चौबे, ममता उपाध्याय, प्रमिला देवी, पूर्णिमा कुमारी सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस