श्रीबंशीधर नगर: प्याज की बढ़ी हुईं कीमत खाने वालों के साथ-साथ बेचने वालों को भी रुला रही है। श्री बंशीधर नगर में महंगे प्याज के दहशत का आलम यह है की अब होटलों में बगैर प्याज के समोसा, लिट्टी, सब्जी सहित अन्य व्यजंन बनाये जा रहे हैं। होटलों में प्याज की जगह मूली ने ले ली है। वहीं मध्यम वर्गीय परिवार के किचन से भी प्याज कोसों दूर चला गया है। लोग महंगे प्याज को देखते हुये शुद्ध सात्विक हो गये हैं। प्याज के साथ साथ कमोबेश अन्य सब्जियों के दामों में भी भारी वृद्धि देखी जा रही है। श्री बंशीधर नगर में वर्तमान समय में प्याज 120 प्रति किलो की दर से बिक रहा है। वहीं इस सीजन में अमूमन 10 से 15 रुपये प्रतिकिलो की दर से बिकने वाला आलू भी 25 से 35 रुपये प्रति किलो की दर से बिक रहा है। आलू और प्याज लोगों की थाली की प्रमुख सब्जी हुआ करता है। ऐसे में आलू एवं प्याज के बढ़े हुए दाम ने गरीबों की थाल से सब्जी को दूर कर दिया है। श्री बंशीधर नगर के सभी होटलों में भी बगैर प्याज के ही विभिन्न व्यंजन बनाए जा रहे हैं। होटल संचालकों का कहना है की होटल में बिकने वाले सामग्रियों का मूल्य पूर्व की भांति है ऐसे में 120 किलो की दर से प्याज खरीद कर सामग्री बनाना संभव नहीं है। इसलिए हम लोग बगैर प्याज के ही विभिन्न सामग्री बना रहे हैं। दुकानदारों ने कहा कि इसके लिए ग्राहक भी कोई एतराज नहीं करते हैं। सब्जी के प्रमुख आढ़तिया मख्खड़ साह ने बताया कि प्याज का सामान्य रहने पर हमारे यहां से प्रतिदिन एक ट्रक प्याज की बिक्री होती थी। लेकिन जब से प्याज के भाव ने आसमान छुआ है तब से प्रतिदिन 20 बोरा भी प्याज बेचना मुश्किल हो गया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप