संवाद सहयोगी, गढ़वा : दुर्गा पूजा को ले गुरूवार को उपायुक्त राजेश कुमार पाठक की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई। इस दौरान सरकार सरकार द्वारा जारी गाइन लाइन पर विस्तृत रूप से चर्चा की गई। डीसी ने कहा कि कोरोना महामारी को देखते हुए राज्य सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन सभी पदाधिकारी अक्षरश: करवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने बताया कि दुर्गा पूजा के अवसर पर भक्तों द्वारा दुर्गा पूजा पर्व छोटे पंडाल में पारंपरिक रूप से बगैर भीड़ भाड़ के मनाए। सभी लोग घर में ही त्यौहार मनाने का प्रयास करें। दुर्गा पूजा पंडाल का निर्माण किसी थीम पर आधारित नहीं हो, दूर्गा पूजा पंडाल के आसपास के क्षेत्र में किसी भी प्रकार का लाइटिग डेकोरेशन वर्जित किया गया है। दुर्गा पूजा पंडाल के क्षेत्र में स्वागत द्वार अथवा तोरण द्वार का निर्माण की अनुमति नहीं है। मूर्ति स्थान को छोड़कर पूजा पंडाल का पूरा क्षेत्र हवादार होना चाहिए। मां दुर्गा की प्रतिमा 4 फीट या उससे कम होना चाहिए। साथ ही सार्वजनिक उद्घोषणा या माइक से पब्लिक का संबोधन को भी वर्जित किया गया है। दुर्गा पूजा पंडाल के आस-पास ठेला खोमचा लगाने की भी अनुमति नहीं दी गई है। दुर्गा पूजा पंडाल में आयोजकों, पुजारियों एवं पंडाल के सदस्य की एक समय में 7 से अधिक की संख्या की अनुमति नहीं है। जबकि मूर्ति विसर्जन के जुलूस को भी अनुमति प्रदान नहीं की गई है। विसर्जन हेतु जिला प्रशासन द्वारा निर्धारित स्थल पर मूर्ति का विसर्जन कराया जाएगा। इसके अलावा सार्वजनिक स्थलों पर गरबा, डांडिया कार्यक्रम के आयोजन की अनुमति नहीं दी गई है। लोग रावण पुतला दहन कार्यक्रम सार्वजनिक स्थल पर नहीं कर सकेंगे। सार्वजनिक स्थलों पर चेहरे पर फेस कवर अथवा मास्क पहनना अनिवार्य किया गया है। बैठक में उपायुक्त ने बताया कि विधि व्यवस्था के मद्देनजर तीन स्तर की सुरक्षा व्यवस्था का खाका तैयार किया गया है जिसमें उपायुक्त व पुलिस अधीक्षक, सभी अनुमंडल पदाधिकारी, सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी व थाना प्रभारी शामिल है। जिनके द्वारा सभी गतिविधियों पर नजर रखी जाएगी। मौके पर उपायुक्त ने अनुमंडल पदाधिकारी तथा जिला परिवहन पदाधिकारी को निर्देश दिया कि अभियान चलाकर चेक पोस्ट के माध्यम से ओवरलोडिग पर कंट्रोल करें। दशहरा के अवसर पर अभी से लेकर दशहरा तक ट्रैफिक मैनेजमेंट प्लान तैयार कर थाना स्तर से भी चेकनाका बनाने का निर्देश दिया गया। बैठक में उपायुक्त के अलावा उप विकास आयुक्त सत्येंद्र नारायण उपाध्याय, अपर समाहर्ता एके ओढ़ेया, सदर अनुमंडल पदाधिकारी जियाउल हक, विभिन्न प्रखंडों के प्रखंड विकास पदाधिकारी, अंचलाधिकारी आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran