उपायुक्त रविशंकर शुक्ला ने बुधवार की दोपहर प्रखंड कार्यालय का औचक निरीक्षण किया। प्रखंड विकास पदाधिकारी कमलेंद्र कुमार सिन्हा के डीडीसी की बैठक में शामिल होने की वजह से कई लोग वृद्धावस्था पेंशन, प्रधानमंत्री आवास समेत अन्य का आवेदन लेकर आए थे। कुछ लोग बरामदा में तो कुछ कार्यालय के अंदर खड़े थे। उपायुक्त ने सभी से प्रखंड कार्यालय आने का कारण पूछा और आवेदन लेकर काम जल्द पूरा करने का निर्देश संबंधित कर्मी को दिया। जोगिया गांव की पार्वती हेंब्रम अपने समक्ष उपायुक्त को पाकर काफी गदगद हुई। वह बच्ची का आधार कार्ड बनवाने के लिए कई दिन से घूम रही थीं। उपायुक्त ने पार्वती का काम मिनटों में करवा दिया। कई लोग आधार कार्ड बनवाने आए थे, जिस पर उपायुक्त ने संबंधित कर्मी सुरेश मरांडी को बुलाकर सभी का आधार कार्ड तुरंत बनाने का निर्देश दिया। गम्हरिया हाट के सोमनाथ किस्कु ने उपायुक्त को बताया कि उन्हें प्रधानमंत्री आवास की राशि नहीं मिली है। जबकि प्रखंड कार्यालय से आवास बनाने का नोटिस भेजा गया है। इस पर उपायुक्त ने कंप्यूटर आपरेटर को बुलाकर मामले का समाधान कर शाम तक बीडीओ के माध्यम से उन्हें सूचित करने को कहा। कंप्यूटर आपरेटर ब्रह्मादेव कुमार को बिना मास्क के देखने पर कड़ी फटकार लगाई। उन्होंने संबंधित सभी कर्मी को निर्देश दिया कि प्रखंड कार्यालय में जो भी व्यक्ति आते हैं उनका आवेदन तुरंत लिया जाए। बेवजह लोगों को कार्यालय में न बैठाएं। निरीक्षण के बाद उपायुक्त ने बैठक सभागार में सभी कर्मियों के साथ बैठक कर कार्यप्रणाली में सुधार लाने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि कर्मी अपने ड्रेस कोड में कार्यालय में रहे और तय समय पर आए। उपायुक्त ने सभी कर्मियों की हाजिरी ली, जो कर्मी अनुपस्थित थे उनकी हाजिरी काटते हुए उनसे स्पष्टीकरण पूछने का निर्देश दिया। आंगनबाड़ी पर्यवेक्षिका को निर्देश दिया कि वह दो बजे तक क्षेत्र का भ्रमण करें और इसके बाद कार्यालय आएं। प्रतिदिन चार से पांच आंगनबाड़ी केंद्र का निरीक्षण करें। कहा कि उनकी रामगढ़ प्रखंड का पहला निरीक्षण था। इसलिए सभी कर्मी को कार्यशैली में सुधार लाएं। कर्मी अपने कार्यालय के अंदर बैठे हैं और लोग बाहर घूम रहे हैं ऐसा नहीं होना चाहिए। दोबारा निरीक्षण के दौरान कर्मियों की लापरवाही सामने आई तो कार्रवाई की जाएगी। प्रखंड कार्यालय के आंगन में गंदगी देख उपायुक्त ने इसे जल्द से जल्द साफ कराने का निर्देश दिया। उपायुक्त ने कहा कि प्रखंड कार्यालय में हेल्प डेस्क में एक कर्मी की प्रतिनियुक्ति की जाएगी, जो प्रखंड कार्यालय आने वाले लोगों को सभी प्रकार का सहायता करेगा। उपायुक्त ने बौंड़िया पंचायत के ठेंगी मोड़ में बने मनरेगा से बने सिचाई तालाब का भी निरीक्षण किया। उन्हें सूचना मिली है कि पंचायत में कई योजनाओं में तालाब के ऊपर तालाब बना दिया गया है। रोजगार सेवक मनोज कुमार मंडल को ईमानदारी से इसकी रिपोर्ट सौंपने को कहा कि किन-किन तालाब में अनियमितता बरती गई है। ठेंगीमोड़ में एक ही जगह पर मनरेगा योजना से लगभग 20 से 25 तालाब बनाया गया है। अधिकांश तालाब की गहराई काफी कम है। इस दौरान उपायुक्त ने जिला मत्स्य पदाधिकारी को इन सभी तालाबों में मछली पालन की संभावना तलाशने का निर्देश दिया। उपायुक्त ने कहा कि यदि लाभुक की सहमति हो तो दो-तीन तालाब को मिलाकर एक बड़ा तालाब बनाकर उसमें मछली पालन किया जा सकता है। किसान मछली पालन में भी आत्मनिर्भर हो सके।

Edited By: Jagran