झारखंड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन ने बुधवार को दुमका के एनआइसी परिसर में एकदिवसीय धरना व उपवास कर स्कूलों को पूरी तरह से खोले जाने की मांग सरकार से की है। एसोसिएशन के पदाधिकारियों का कहना है कि अब कोविड-19 के संक्रमण की दूसरी लहर का असर न के बराबर है। ऐसे में सरकार कक्षा एक से लेकर सभी वर्ग के लिए स्कूलों को खोलने की इजाजत दे। बताते चलें कि मंगलवार को सरकार ने कक्षा छह से आठ तक संचालित स्कूलों को खोलने की इजाजत दे दी है, लेकिन झारखंड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन का मानना है कि कक्षा एक से स्कूलों को खोला जाना चाहिए। धरना व उपवास कार्यक्रम के माध्यम से एसोसिएशन ने कोविड काल में विद्यालयों के सभी प्रकार के टैक्स व बिजली बिल माफ किए जाने की भी मांग की है। किराये के भवन में संचालित सभी विद्यालयों को किराया में रियायत दिए जाने, यू-डायस कोड प्राप्त सभी निजी विद्यालयों को अविलंब मान्यता देने व गैर मान्यता प्राप्त विद्यालयों के शिक्षक - शिक्षिकाओं तथा कर्मचारियों को तत्काल आर्थिक सहयोग दिए जाने की मांग भी एसोसिएशन ने किया है। कार्यक्रम का आयोजन अध्यक्ष इग्नासिया मुर्मू और सचिव करुण कुमार राय की अगुवाई में किया गया। इसकी शुरुआत विद्यालय प्रबंधन के संचालकों ने सरदार बल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा स्थल पर माल्यार्पण के साथ की गई। यहां से सभी सदस्य शांति मार्च करते हुए धरना स्थल पहुंचे। धरना के दौरान यह भी तय किया गया कि यदि एक सप्ताह के अंदर सरकार उनकी मांगों पर सकारात्मक पहल नहीं करती है तो आंदोलन किया जाएगा।

Edited By: Jagran