दुमका : झारखंड राज्य एनआरएचएम एएनएम-जीएनएम अनुबंध कर्मचारी संघ की बैठक मंगलवार को जिला अध्यक्ष वीनिता कुमारी की अध्यक्षता में डायग्नोस्टिक सेंटर में हुई। बैठक में निर्णय लिया गया कि अब से सभी अनुबंध कर्मी अपना प्रत्येक वर्ष अनुबंध विस्तार नहीं कराएंगे। राज्य में 2015 से 23 जिलों में अनुबंध विस्तार का काम नहीं हो रहा है। सिर्फ दुमका जिला में ही यह कार्य किया जा रहा है। इसलिए सभी कर्मी विरोध करते है। अब आगे से कोई भी कर्मी अपना अनुबंध विस्तार के लिए कही भी आवेदन नहीं देगा। पिछले माह सर्पदंश से हुई एएनएम सुहागिनी मुर्मू की मौत पर सरकार की ओर से किसी तरह की सहायता नहीं मिलने पर रोष जताया। कहा कि एएनएम का पीएफ जो विभाग के पास जमा है, उसे जल्द उसके अभिभावक दिया जाए। कई माह से सभी एएनएम की पीएफ प्रतिमाह कटौती की जा रही है। यह राशि कहां जा रही है। आजतक संबंधित कार्यालय कर्मी बता पाने में सक्षम नहीं है। न ही कोई खाता संख्या दी गई। जिससे यह पता नहीं चल रहा है कि कितनी राशि जमा है। इस संबंध में संघ का एक प्रतिनिधिमंडल जल्द ही सिविल सर्जन डॉ. अनंत कुमार झा से मिलकर बातों को रखेगा। बैठक में शांति सोरेन, शिलवंती सोरेन, सरिता कुमारी, गीता कुमारी, रोजलीन हांसदा, गुंजन कुमारी, यूनिकी मुर्मू, हेमंती हांसदा, सुशीला सोरेन, एलिना हेंब्रम, प्रीति टुडू, शर्मिला मरांडी, प्रेमा सोरेन आदि शामिल थीं।

Posted By: Jagran