दुमका : झारखंड राज्य विश्वविद्यालय कर्मचारी एवं महाविद्यालय कर्मचारी महासंघ के आह्वान पर गुरुवार को सिदो-कान्हु मुर्मू विश्वविद्यालय में कार्यरत शिक्षकेतर कर्मी समेत अंगीभूत महाविद्यालयों के नियमित शिक्षकेतर कर्मी एक दिवसीय सामूहिक अवकाश पर रहे। इस दौरान शिक्षकेतर कर्मियों ने विवि मुख्यालय में शांतिपूर्ण तरीके से धरना व प्रदर्शन भी किया। धरना प्रदर्शन को साहिबगंज महाविद्यालय के अजय झा, देवघर कॉलेज के धनंजय कुमार एवं नित्यानंद यादव, गोड्डा महाविद्यालय के राजेश कुमार, केकेएम कॉलेज के आजाद ¨सह, बीएसके कॉलेज बड़हरवा के जवाहर साह, हृदयनारायण राय, मधुपुर कॉलेज के आशुतोष लाला, एसपी महिला कॉलेज के अविनाश मरांडी, आरडी बाजला महिला कॉलेज देवघर के शिशिर कुमार ¨सह, एसआरटी कॉलेज धमड़ी के अशोक कुमार सिन्हा, एवं विश्वविद्यालय मुख्यालय के अध्यक्ष परिमल कुंदन, प्रक्षेत्रीय सचिव नेतलाल मिर्धा, अध्यक्ष दीपेंद्रनाथ जजवाड़े ने धरना कार्यक्रम को संबोधित करते हुए विवि प्रबंधन से अविलंब छह सूत्री मांगों पर सकारात्मक पहल करने की मांग की। धन्यवाद ज्ञापन अतुल कुमार झा ने की। बाद में शिक्षकेतर कर्मियों का एक प्रतिनिधिमंडल कुलपति प्रो. मनोरंजन प्रसाद सिन्हा से मिलकर अपनी मांगों को रखा। अध्यक्ष परिमल ने बताया कि कुलपति के स्तर से शिक्षकेतर कर्मियों के जायज मांगों को पूरा करने के लिए राज्य सरकार तक मामले को रखेंगे।

ये हैं मुख्य मांगें

एक जनवरी 2016 के प्रभाव से सप्तम वेतनमान की अधिसूचना जारी की जाए।

- राज्य सरकार के कर्मियों की तरह एक जनवरी 1996 से एसीपी एवं एक जनवरी 2006 से एमएसीपी लागू किया जाए।

- पंचम एवं पष्टम वेतनमान में जिन कर्मियों का वेतन निर्धारण नहीं हुआ है उनका यथाशीघ्र वेतन निर्धारण किया जाए।

- राज्य सरकार के कर्मियों की तरह अíजत अवकाश के संचयन की प्रभावी तिथि एक अप्रैल 2006 किया जाए।

- सेवानिवृत्ति की आयु सीमा पूर्व की तरह 62 वर्ष किया जाए।

- एक जनवरी 1996 से एक नवंबर 2000 तक के समस्त बकाए का भुगतान किया जाए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस