जासं, मसलिया (दुमका)। उन्मादी लोगों ने शुक्रवार को मसलिया प्रखंड के सिउलबोना जंगल में लकड़ी बीन रही दो महिलाओं पर हमला बोल दिया। भीड़ ने एक महिला को बर्बरतापूर्ण पीट पीटकर मार डाला। ग्रामीणों के हमले में किसी तरह दूसरी महिला भागकर जान बचाने में सफल रही।

दुमका जिले में एक तरह से उन्मादी हिंसा (मॉब लिंचिंग) की यह पहली घटना है। इससे पहले साहिबगंज के रक्सी की मिर्जाचौकी पर 17 अगस्त 2017 को अपने 11 वर्षीय बच्चे के साथ भीक्षाटन कर गोलबती नामक महिला की लोगों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। बच्चे की किसी तरह जान बच गई थी।

इधर, मिली जानकारी के अनुसार, शुक्रवार को विक्रमपुर गांव की बहामु़नि टुडू और सोनादी मरांडी जंगल में लकड़ी चुनने के लिए गई थी। इसी क्रम में सिउलबोना गांव के लोगों ने उन्हें भगाने का प्रयास किया। नहीं मानने पर हमला बोल दिया। सोनादी किसी तरह से जान बचाकर भागने में सफल रही लेकिन बहामुनि उनके हत्थे चढ़ गई। उन्मादी लोगों ने उसे पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया। शनिवार को सूचना मिलने के बाद पुलिस जंगल पहुंची और शव बरामद किया।

पुलिस मामला दर्ज कर आरोपितों की पहचान का प्रयास कर रही है। पुलिस जानने का प्रयास कर रही है कि महज लकड़ी बीनने को लेकर लोग इतने ¨हसक कैसे हो सकते हैं। घटना के पीछे कोई और कारण तो नहीं है या यह मॉब लिंचिंग का मामला है।

 

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस