रामगढ़ : प्लस टू उच्च विद्यालय रामगढ़ में पहली बार मैट्रिक परीक्षा हो रही है। चाहरदीवारी नहीं होने के बावजूद विद्यालय को मैट्रिक परीक्षा का केंद्र बनाया गया है। इसके लिए विद्यालय के प्रभारी प्रधानाध्यापक सह केंद्राधीक्षक दुष्यंत कुमार सिन्हा ने वैकल्पिक व्यवस्था के तहत विद्यालय की घेराबंदी बांस से करा दी है। मैट्रिक परीक्षा में लगभग 425 छात्र-छात्राएं शामिल हो रहे हैं। इनके बैठने के लिए भी पर्याप्त मात्रा में बेंच-डेस्क मौजूद नहीं है। सोमवार को शिक्षकों को बगल के बालक मध्य विद्यालय से बेंच-डेस्क ढोकर कमरे में लगाते देखा गया।

प्रधानाध्यापक ने बताया कि कदाचार मुक्त परीक्षा संपन्न कराने की पूरी कोशिश की जाएगी। इसके लिए सभी कमरों में सीसीटीवी कैमरा भी लगवाया जा रहा है। रामगढ़ प्रखंड के तीन विद्यालयों प्लस टू उच्च विद्यालय रामगढ़, रानी सोनावती उच्च विद्यालय नोनीहाट तथा कन्या मध्य विद्यालय नोनीहाट को इस बार मैट्रिक परीक्षा का केंद्र बनाया गया है। प्रखंड विकास पदाधिकारी साइमन मरांडी को गश्ती दंडाधिकारी बनाया गया है। गश्ती दंडाधिकारी द्वारा ही प्रतिदिन प्रश्न पत्र को सभी केंद्रों तक पुलिस की मौजूदगी में पहुंचाया जाएगा। प्लस टू उच्च विद्यालय में रामगढ़ के कनीय अभियंता मुकेश कुमार मंडल को दंडाधिकारी बनाया गया है। रामगढ़ स्थित प्लस टू उच्च विद्यालय में कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय रामगढ़, प्रोजेक्ट कन्या उच्च विद्यालय रामगढ़, उत्क्रमित उच्च विद्यालय हाट गम्हरिया, बंदरजोड़ा तथा उच्च विद्यालय ठाड़ीहाट के बच्चों के लिए परीक्षा केंद्र बनाया गया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप