घासीपुर के बांस हस्तशिल्पियों का बनेगा आर्टीजन कार्ड

जागरण संवाददाता, दुमका : जनमत शोध संस्थान की ओर से दुमका प्रखंड के घासीपुर पंचायत के मोहली टोला में बांस हस्तशिल्पियों के लिए रविवार को हस्तशिल्प चौपाल का आयोजन किया गया। हस्तशिल्पी कारमू मोहली कि अध्यक्षता में आयोजित चौपाल में जनमत शोध संस्थान के सचिव अशोक सिंह ने कहा कि संस्थान भारत सरकार के हस्तशिल्प विभाग से जुड़कर हस्तशिल्पियों के विकास के लिए जिले में लगातार काम कर रही है। इसी कड़ी में घासीपुर के मोहली जनजाति परिवारों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन करने की मंशा है। इसके लिए संस्थान की ओर से घासीपुर में बांस का काम करने वाले मोहली परिवारों का सर्वेक्षण कराया गया था। सर्वेक्षण के उपरांत हस्तशिल्प विभाग द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं की जानकारी देने और उनका आर्टीजन कार्ड बनाने के उद्देश्य से इस चौपाल का आयोजन किया गया है। इसी कड़ी में विकास आयुक्त कार्यालय हस्तशिल्प देवघर के कारपेट ट्रेनिंग आफिसर रवि जान रोशन ने केंद्रीय हस्तशिल्प विभाग की ओर से हस्तशिल्पियों के विकास के लिए चलाई जा रही विभिन्न प्रशिक्षण कार्यक्रमों एवं कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी। साथ ही शिल्पियों की पहचान के लिए आर्टीजन कार्ड के महत्व और उससे मिलने वाले लाभ के बारे में बताया। जनमत शोध संस्थान से जुड़े कार्यकर्ता सुरेन मोहली, अनिता मोहली, लुखी मोहली एवं शांति मरांडी के संयोजन में आयोजित चौपाल में बांस-बेंत का काम करने वाले दर्जनों महिला-पुरुष शिल्पियों ने अपना आर्टीजन कार्ड बनवाने के लिए आवेदन फार्म भरा।

Edited By: Jagran