व्यवसायियों के आंदोलन को मिला साथ

जागरण संवाददाता, दुमका : दुमका चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज के सदस्यों ने फेडरेशन आफ झारखंड चैंबर आफ कामर्स के आह्वान पर राज्य स्तरीय आंदोलन में शामिल होने के लिए सभी आलू , प्याज एवं फल थोक विक्रेताओं के साथ हटिया परिसर में बैठक की। बैठक में आलू, प्याज एवं फल कारोबारियों ने एकजुटता का परिचय देते हुए आंदोलन में शामिल होने का निर्णय लिया। सभी विक्रेताओं ने एक स्वर में कहा कि जब तक मंडी शुल्क के लिए गए निर्णय को वापस नहीं लिया जाता है तब तक आंदोलन जारी रहेगा। 15 मई तक बाहर की मंडियों में जो खाद्य सामग्री लोडिंग हो चुकी है वही सामान ट्रक से उतरने दिया जाएगा। 15 मई के बाद से जो खाद्य सामग्री लोडिंग होकर आएगा उसे उतरने नहीं दिया जाएगा। सभी विक्रेताओं ने राज्य में सरकार के स्तर से फिर से बाजार समिति शुल्क लगाने के प्रयासों पर आपत्ति जताई है। बताते चलें कि विधानसभा में पारित झारखंड राज्य कृषि उपज और पशुधन विपणन विधेयक 2022 में दो फीसदी बाजार समिति शुल्क लगाए जाने का प्राविधान किया गया है जिस लागू नहीं करने की मांग व्यवसायी कर रहे हैं। मौके पर सचिव मनोज कुमार घोष, संरक्षक सियाराम घिड़िया, संजय भलोटिया, प्रवीण मेहारिया, उपाध्यक्ष पवन भलोटिया, मीडिया प्रभारी रमण कुमार वर्मा, राजीव हेतमपुरीया, कन्हाई मुकिम, जीवन मुकिम, चंदन भुवानियां ,आनंद केशरी, बीके विनोद, चंदन कुमार, मुकेश ठाकुर, प्रमोद कुमार भगत ,उमेश केशरी, कृष्ण गुप्ता ,मोहम्मद कलाम ,मोहम्मद यूनुस मोहम्मद शमीम ,मोहम्मद नजीर ,राकेश संतोष कुमार सिंह ,विजय कुमार साह, गणेश मंडल ,राजेश कुमार केशरी समेत कई मौजूद थे।

Edited By: Jagran