मसलिया के गुमरो पंचायत के पहाड़पुर गांव के लोगों ने ग्राम प्रधान, गुड़ित, नायकी को स्थायी दर्जा दिए जाने की मांग करते हुए शनिवार को प्रदर्शन किया। पहाड़पुर गांव के 52 घरों की समस्या 27 वर्षो से बरकरार है। मनोनीत ग्राम प्रधान मनोरंजन सोरेन को पट्टा व मानदेय नहीं मिल रहा है। नायकी मैनेजर सोरेन, कुडाम नायकी लखिद्र सोरेन, गुड़ित बूदी मरांडी, प्राणिक इंद्रेश्वर सोरेन, जोग मांझी मुहिम मुर्मू को मानदेय नहीं मिला है। जबकि, वर्तमान प्रधान बाबूलाल सोरेन गांव के पूजा-पाठ, विचार-विमर्श, शादी-विवाह के मामलों में किसी भी प्रकार का सरोकार नहीं रखते हैं। यह गांव में रहते भी नहीं हैं।

ग्रामीण के मुताबिक मसलिया के तत्कालीन सीओ महेश्वर महतो के समय दो बार आवेदन दिया गया, लेकिन आज तक कुछ सुनवाई नहीं हुई। ग्रामीणों ने कहा कि प्रशासनिक अधिकारियों की लापरवाही के कारण गांव में पट्टाधारी ग्राम प्रधान नहीं है। इसकी वजह से खजाना रसीद नहीं कट रहा है। जाति, निवासी, आय से लेकर आधार कार्ड व तमाम प्रमाण पत्र बनने के समय भी काफी फजीहत होती है। कहा कि इस बार कई ग्राम प्रधानों का पट्टा सरकार की ओर से निर्गत किया गया और कई नए ग्राम प्रधान बनाए गए, लेकिन पहाड़पुर गांव में ग्राम प्रधान की समस्या 27 वर्षाें से जस की तस है। ग्रामीणों ने कहा कि अब विधायक बसंत सोरेन के पास जाकर आवेदन दिया जाएगा।

मौके पर ग्रामीणों ने ग्राम प्रधान बहाल करने, पट्टा, वेतन लागू करने, गुड़ित नायकी को मानदेय लागू दिए जाने की मांग की। मौके पर रामबाबू हेंब्रम, राजेश सोरेन, बलदेव सोरेन, दिनेश मुर्मू, बाबुजन मुर्मू, प्रेम सोरेन,शिबू सोरेन, कालीचरण सोरेन, रामेश्वर सोरेन, दीपक सोरेन, सोनधन सोरेन, गिलधोरी हेम्ब्रम, राजा हेम्ब्रम, कांग्रेस मुर्मू, वकील सोरेन, देवीसल सोरेन, बानेश्वर सोरेन, मदन सोरेन, सोमलाल सोरेन, सेमल सोरेन, धानेश्वर सोरेन, अमरजीत सोरेन, छोटो सोरेन समेत कई मौजूद थे।

Edited By: Jagran