महुदा, जेएनएन। शंकर गयाली को बहादुरी दिखाने में जरा भी इसका भान नहीं रहा कि वह जहरीले सांप से खेल माैत को आमंत्रण दे रहा है। जबकि बेलाखोंदा गांव के युवक अच्छी तरह जानते थे कि विषधर का एक डंक जानलेवा साबित हो सकता है। इसलिए युवकों ने विषधर को काबू में कर डिब्बे में बंद कर दिया था। लेकिन, शंकर ने डिब्बे को खोल दिया। डिब्बा खोलते ही विषधर ने उछल कर काट खाया। और विषधर से खेल में शंकर की जान चली गई।

मधुबन थाना क्षेत्र के ब्राह्मणडीहा निवासी शंकर गयाली मेला घूमने के लिए भाटडीह ओपी क्षेत्र के बेलाखोंदा ग्राम में अपने ससुराल आया था। मेला के बाद वह बेलाखोंदा के बगीचे में घूम रहा था। बगीचे में सांप निकलने पर युवकों ने पकड़ डिब्बे में बंद कर दिया। डिब्बे में बंद सांप को युवक तमाशा की तरह दिखा रहे थे। यह सब देख शंकर से न रहा गया। उसने डिब्बे को खोल दिया। इसके बाद सांप को हाथ में पकड़ कर दिखाने लगा। अचानक सांप ने शंकर को कांट खाया। थोड़ी ही देर में शंकर के शरीर में विष फैल गया वह चक्कर खाकर गिर पड़ा। सांप का जहर उतारने के लिए पहले शंकर को ओझा-गुनी के पास ले जाया गया। ओझा-गुनी से बज बात नहीं बनी तो पीएमसीएच में ले जाया गया। पीएमसीएच में अशर्फी अस्पताल में रेफर कर दिया। मंगलवार को इलाज के दाैरान शंकर की मृत्यु हो गई।

डिश संचालक शंकर गयाली की मृत्यु के बाद उसके परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। मृतक ब्राहमनडीहा निवासी अनाथ गयाली का मंझला पुत्र था।

Posted By: Mritunjay

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस