धनबाद, जेएनएन। धनबाद से हावड़ा के बीच चलने वाली कोलफील्ड एक्सप्रेस सुपर फास्ट ट्रेन में अनूठे अंदाज में बाबा विश्वकर्मा की पूजा होती है। धनबाद से ट्रेन छूटने के साथ ही डिब्बे के अंदर धूमधाम से पूजा शुरु होती है। इस दौरान डेली पैसेंजर भजन-कीर्तन भी करते रहते हैं। यह सिलसिला हावड़ा पहुंचने और फिर हावड़ा से धनबाद वापसी तक चलता है। इस दौरान यात्रियों के बीच प्रसाद का वितरण भी होता है। इस अनूठी परंपरा का पाच दशक से भी ज्यादा समय से डेली पैसेंजर निर्बाध रुप से निर्वहन करते आ रहे हैं।

ट्रेन के डब्बों की साफ सफाई हुई। गेट पर केले के पत्ते से तोरण द्वार बने और इसके साथ ही ढोल नगाडे के साथ भगवान विश्वकर्मा की प्रतिमा स्थापित हुई। अवसर था धनबाद से हावड़ा जानेवाली कोलफिल्ड सुपर फास्ट एक्स में विश्वकर्मा पूजा का जिसे तकरीबन 70 सालों से डेली पैसेंजर करते आ रहे हैं।

धनबाद से हावड़ा के बीच प्रतिदिन सफर करने वाले मनोज गुप्ता ने बताया कि वह इस ट्रेन से लगभग 35 सालों से रोज सफर कर रहे हैं। अब यह सिर्फ ट्रेन नहीं बल्कि रोजी रोटी का जरिया है। यही वजह है कि प्रति वर्ष इस ट्रेन की पूजा करते हैं। सुबह धनबाद से खुलने वाली कोलफिल्ड एक्स के साथ शाम की धनबाद हावड़ा ब्लैक डायमंड एक्स में भी विश्वकर्मा पूजा का आयोजन होता है। हालाकि प्रतिमा सिर्फ कोलफिल्ड में ही स्थापित की जाती है। ट्रेन में होनेवाली पूजा सद्भाव और भाईचारे का संदेश भी देता है जिसमें मजहब की दीवार नहीं रहती और हर कौम के डेली पैसेंजर मिल कर करते हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप