जासं, झरिया : कोल इंडिया व बीसीसीएल से मान्यता प्राप्त पांचों श्रमिक यूनियन कोयला मजदूरों की समस्याओं के प्रति गंभीर नहीं हैं।

कोयला मजदूर पेयजल, बिजली, जर्जर आवास, गंदगी व कोलियरी कार्यालयों में भ्रष्टाचार की समस्या से परेशान हैं। यूनियन के पदाधिकारियों को मजदूरों की समस्याओं से कोई लेना-देना नहीं है। सभी अपने स्वार्थ के लिए काम कर रहे हैं। उक्त बातें गुरुवार को ईजे एरिया भौंरा में 

राष्ट्रीय कोलियरी मजदूर कांग्रेस के मिलन समारोह में मुख्य अतिथि राकोमकां बीसीसीएल जोंन के अध्यक्ष केडीपी यादव ने कही। ईजे एरिया कमेटी के पुर्नगठन के बाद गुरुवार को भौंरा क्षेत्रीय कार्यालय परिसर में नए पदाधिकारियों व सदस्यों का मिलन समारोह आयोजित किया गया था। केडीपी यादव ने 

पांचों मान्यता प्राप्त यूनियनों पर निशाना साधते हुए कहा कि वर्षों सर सभी यहां बीसीसीएल की पिछलग्गू बन गई है। मजदूरों की ताकत से बढ़ कर कोई ताकत नहीं है। कोयला मजदूरों के बल पर देश चल रहा है। इनकी मेहनत से ही देश आगे बढ़ रहा है। राकोमकां के साधु शरण ने

नए पदाधिकारियों, सदस्यों को माला पहना कर स्वागत किया। इस दौरान पदाधिकारियों ने मजदूरों की समस्याएं रखी। कोयला मजदूरों की समस्याओं के समाधान को लेकर आंदोलन करने का निर्णय लिया गया। बबलू शर्मा, प्रदीप सिंह व यूनियन के महामंत्री रंजीत यादव ने संगठन की सदस्यता को बढा़ने व इसे मजबूत करने की बात कही। ईजे एरिया राकोमसं के अध्यक्ष परमेश्वर बाउरी, उपाध्यक्ष कन्हैया महतो, शंकर चौधरी, दिलीप महतो, सचिव सुरेश रवानी, सह सचिव मो सिराज, केदार महतो, कोषाध्यक्ष बलराम सहिस, सह कोषाध्यक्ष काशी मोदी चुने गए। 15 कार्यकारिणी के सदस्य भी बनाए गए।

Edited By: Atul Singh