धनबाद, जेएनएन। धनबाद-रांची रेल मार्ग पर गुरुवार को भीषण रेल हादसा टल गया। रेलवे पुल पर बने ट्रैक से गुजर रही मालगाड़ी के पहिए जोरदार आवाज के साथ उछल गये। हल्की सी चूक हो जाती तो पूरी मालगाड़ी दामोदर नदी में समा जाती। इस घटना के कारण घंटों रेल परिचालन प्रभावित रहा। वाकया तुपकाडीह-राजाबेड़ा के बीच बने रेलवे पुल की है। जानकारी मिलते ही डीआरएम मौके पर पहुंचे और ट्रैक को दुरुस्त कराने का काम शुरू कराया।

दरअसल, सुबह 6.50 पर तुपकाडीह-राजाबेड़ा रेल पुल से मालगाड़ी गुजर रही थी। अचानक झटका लगा और पहिया उछल गया। मालगाड़ी के गार्ड जीके राम ने गोमो को सूचना दी, जिसके बाद तत्काल परिचालन रोक दिया गया। राजाबेड़ा के ऑन ड्यूटी स्टेशन मास्टर राजेश कुमार ने पोर्टर पंकज कुमार को घटनास्थल पर भेजा। पोर्टर ने पाया कि रेलवे पुल का गार्डर टेढ़ा था और इस वजह से ट्रैक मं भी खराबी आ गई थी।

पूर्व मध्य रेल के प्रधान मुख्य अभियंता भी पहुंचे

तुपकाडीह-राजाबेड़ा के बीच हुई घटना की गूंज पूर्व मध्य रेल मुख्यालय तक पहुंच गई। घटना के बाद पटना-हटिया एक्सप्रेस से जोन के प्रधान मुख्य अभियंता भी घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने विभागीय अधिकारियों से पूरे मामले की जानकारी ली।

गार्ड, स्टेशन मास्टर और पोर्टर होंगे पुरस्कृत

ट्रैक में गड़बड़ी की तत्काल सूचना देने, परिचालन रोकने और गड़बड़ी पकडऩे वाले गार्ड, स्टेशन मास्टर और पोर्टर को रेलवे पुरस्कृत करेगी।

Edited By: Sagar Singh