धनबाद, जेएनएन। IIT(ISM) के क्वारंटाइन सेंटर में भर्ती इंडोनेशियाई तब्लीगी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। लॉकडाउन के दाैरान अब पहले की तरह रात नाै बजे तक खाने-पीने की चीजों की दुकानें खुलेंगी। कोरोना के खतरे को देखते हुए धनबाद नगर निगम सफाईकर्मियों को प्रतिदिन 200 रुपये अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि का भुगतान करेगा। लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों पर झरिया में चला पुलिस का डंडा। आलू की दुकान में शराब बेचे जाने का खुलासा।

इंंडोनेशियाई तब्लीगी जमातियों द्वारा हंगामा की सूचना के बाद क्वारंटाइन सेंटर में छापा

Tablighi Jamaat से जुड़े 10 इंडोनेशियाई नागरिक नहीं मान रहे हैं। पहले इन्हें पाटलिपुत्र मेडिकल कॉलेज एंड अस्पताल (PMCH) में क्वारंटाइन किया गया था। यहां अजब-गजब हरकत कर रहे थे। बिरयानी के लिए हंगामा कर रहे थे। इनकी हरकतों के कारण महिला स्टॉफ असहज महसूस कर रही थीं। इसके बाद इन्हें IIT(ISM) में बनाए गए क्वारंटाइन सेंटर में शिफ्ट किया गया। यहां भी अपनी हरकतों से नहीं बाज आ रहे हैं। हंगामा की सूचना पर गोविंदपुर पुलिस ने सोमवार की आधी रात को IIT(ISM) के क्वारंटाइन सेंटर में छापा मारा। इस दाैरान इंडोनेशियाई तब्लीगी जमाती मोबाइल पर जोर-जोर से बात कर रहे थे। पुलिस ने सभी के मोबाइल फोन जब्त कर लिए हैं। साथ की कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी है। 

लॉकडाउन अवधि में 12 घंटे तक खुली रहेंगी राशन की दुकानें

लॉकडाउन के बाद जिला प्रशासन ने राशन और खाने-पीने की चीजों की दुकानों को खोलने को लेकर समय-सीमा निर्धारित किया था। सुबह 8 बजे से दोपहर दो बजे तक दुकानें खोलने की अनुमति थी। अब झारखंड सरकार ने सुबह नाै बजे से रात नाै बजे तक दुकानें खोलने का दिशा-निर्देश जारी किया है। झारखंड के अपर मुख्य सचिव केके खंडेलवाल की अध्यक्षता में 4 अप्रैल को रांची में Lockdown Implementation Task Force Response की बैठक हुई थी। बैठक में यह निर्णय लिया गया कि शहरों एवं ग्रामों में स्थानीय स्तर पर Groceries की सभी दुकानों को न्यूनतम 12 घंटे (9 AM to 9 PM) के लिए प्रतिदिन खोले जाने हेतु पास निर्गत किए जाएं। दुकानों पर Social Distancing Norms सुनिश्चित करने हेतु दुकानदारों को जवाबदेह बनाया जाय। ऐसे दुकानदारों की Listing कर उन्हें घर से दुकान आने तक के लिए पास निर्गत किया जाय। दुकानदार चाहें तो 24X7 भी दुकान खोल सकते हैं।  Lockdown Implementation Task Force Response की बैठक की कार्यवाही प्राप्त होने के बाद अनुपालन के लिए धनबाद के उपायुक्त अमित कुमार ने संबंधित अधिकारियों को पत्र लिखा है।

कोरोना फाइटर्स को प्रतिदिन 200 रुपये अतिरिक्त मानदेय का होगा भुगतान

कोरोना फाइटर्स, यानी ऐसे लोग जो इस जंग में हमारे सारथी हैं। इसमें हर वर्ग की अपनी भूमिका है। अस्पताल, चिकित्सक, नर्स, पुलिस के जवान और सफाई कर्मी। कोरोना के इस जंग में नगर निगम के सफाई कर्मी भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाने से पीछे नहीं हट रहे हैं। हर गली-मोहल्ले की नालियां साफ कर रहे, अधिक से अधिक क्षेत्र को सैनिटाइज करने का प्रयास कर रहे हैं। डोर टू डोर कचरा उठा रहे हैं। मच्छरों को भगाने के लिए फॉगिंग कर रहे हैं। नगर निगम के योद्धा जो इस महामारी में भी लगातार डोर टू डोर कचरा उठाकर धनबाद को स्वच्छ रख रहे हैं उनका मनोबल भी बढ़ाया जा रहा है। इसी क्रम में मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल ने बरटांड़ बस स्टैंड पहुंच सफाई कर्मियों की हौसला अफजाई की। उन्हें खाने के लिए फल दिया और सभी के स्वास्थ्य की पड़ताल की। इस दौरान सफाई कराने वाली एजेंसी ने बताया कि संकट की इस घड़ी में अपनी जान जोखिम में डाल काम कर रहे कर्मियों को प्रतिदिन 200 रुपये अतिरिक्त शुल्क देने का निर्णय लिया गया है। यह कर्मचारियों के मूल मानदेय से अलग होगा।

लाॅकडाउन के उल्लंघन पर चला पुलिस का डंडा

कोरोना वायरस के खौफ के बीच लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने में झरिया पुलिस जुटी है। बावजूद इसके कई बाइक सवार व लोग लॉकडाउन को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। पुलिस ने मंगलवार को शहर में लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने को लेकर थानेदार पीके सिंह ने अभियान चलाया। बेवजह बाइक लेकर चलनेवालों व सड़क पर घूमनेवालों के साथ सख्ती दिखाई गई। पुलिस का डंडा इन लोगों पर बरसा। बिना काम के दोबारा सड़क पर नहीं घूमने की बात कही। बाइक में घूम रहे युवाओं को सड़क पर ही उठक-बैठक कराई गई। पुलिस ने अभियान के दौरान शहर की सड़क पर बेवजह चलनेवाले लगभग एक दर्जन बाइक को जब्त कर झरिया थाना लाई।

पुलिस ने ग्राहक बन शराब कालाबाजारी का किया खुलासा

लॉकडाउन के दौरान  शराब की दुकानें बंद हैं। इसका फायदा उठाते हुए शराब की कालाबाजारी तेज हो गई। दुकानदार चोरी-चुपके शराब बेच रहे हैं। इसका खुलासा धनबाद पुलिस ने मंगलवार को किया। गुप्त सूचना के आधार पर ग्राहक बनकर पुलिस आलू कारोबारी अजय साव के घर गई। अजय सील घर में नहीं था। उसका बेटा घर पर था। वह वर्दी में नहीं होने के कारण वह पुलिसकर्मियों को नहीं पहचान पाया। पैसे लेकर दो बोतल शराब दी। शराब उसके घर में ही एक बोरे में रखी हुई थी। तभी डीएसपी विधि व्यवस्था मुकेश कुमार तथा बैंक मोड़ इंस्पेक्टर सुरेंद्र सिंह के नेतृत्व पुलिस धमक पड़ी। अजय साव के घर की तलाशी ली गई।  96 बोतल शराब बरामद की गई। अजय साव पुलिस के हाथ नहीं लगा । पुलिस उसकी तलाश कर रही है।

Posted By: Mritunjay

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस