संस, भौंरा/चासनाला : झारखंड में सत्ता परिवर्तन होते ही गौरखुंटी निवासी झामुमो नेता शंकर रवानी के पुत्र कुणाल रवानी के हत्यारोपी नव भारत पब्लिक स्कूल मोहलबनी के प्रधानाध्यापक दिलेश्वर रवानी, अजय रवानी, प्रकाश रवानी को गिरफ्तार कर लिया गया। सिदरी डीएसपी एके सिन्हा की अगुवाई में सुदामडीह व भौंरा पुलिस ने शुक्रवार की देर सभी के घरों में छापेमारी की। शनिवार को सुदामडीह पुलिस ने तीनों आरोपियों को मेडिकल जांच कराने के बाद जेल भेज दिया।

मालूम हो कि कुणाल पर रेनबो कंपनी के चेयरमैन धीरेन रवानी हत्या का आरोपित था। 18 अगस्त 2017 की रात करीब नौ बजे गौरखुंटी मोड़ पर धीरेन की गोली मारकर हत्या करने का आरोप कुणाल पर लगा था। इसके बाद आक्रोशित भीड़ ने कुणाल की भी कुछ घंटे के बाद पीटकर हत्या कर दी थी। धीरेन व कुणाल रिश्ते में चाचा-भतीजा थे।

घरेलू दुश्मनी के कारण धीरेन की कर दी गई थी हत्या :

धीरेन के परिजनों का कहना है कि घरेलू दुश्मनी के कारण व रेनबो की दिनोंदिन तरक्की होते देख कुणाल को जलन होने लगी थी। कुणाल ने आरटीआई से जानकारी लेकर जनता की 96 करोड़ की राशि का गबन करने का आरोप रेनबो कंपनी पर लगाकर जांच करवाई थी। आज भी रेनबो कंपनी पर पैसा हड़पने के कई मामले कोर्ट में चल रहे हैं। मामला सीबीआई व ईडी के संज्ञान में भी है। मामले में धीरेन रवानी के बड़े भाई वरुण रवानी ने कहा है कि कुणाल रवानी, बालिका देवी, करण रवानी व कुछ अन्य लोगों ने गौरखुटी मोड़ पर मेरे सामने धीरेन की गोली मारकर हत्या कर दी थी। उसी वक्त कुणाल पकड़ा गया था। अन्य लोग भाग गए थे। कुणाल को भीड़ ने पीटकर हत्या कर दी थी। कुणाल की हत्या में मेरे व हमारे परिवार और अन्य दोस्त लोगों का कोई हाथ नहीं है। कहा कि धीरेन की हत्या में अभी तक पुलिस अन्य हत्यारे व हथियार की बरामद नहीं कर पाई है।

..

अन्य हत्यारोपी को भी पुलिस करें गिरफ्तार :

कुणाल की मां बालिका देवी ने कहा कि मेरा जिगर का टुकड़ा कुणाल पढ़ाई में बहुत तेज था। अन्याय होते नहीं देख सकता था। रेनबो कंपनी नियम के विरुद्ध जनता से पैसा जमा ले लेकर हड़प रही थी। इसी को लेकर कुणाल ने सूचना के अधिकार के तहत जानकारी लेकर जांच कराई थी। जांच के दौरान करोड़ों रुपए का घपले का उजागर हुआ था। इसी को लेकर कुणाल की हत्या कर दी गई। पैसे के बल पर आरोपित दो वर्षों तक बचते रहे। स्थिति बदली है। पुलिस पर भरोसा है। अब मेरे पुत्र को न्याय मिलेगा। मैं पुलिस से मांग करती हूं कि मेरे पुत्र की हत्या के आरोपी विष्णु रवानी, बरुण रवानी, तारा रवानी जो फरार हैं को पुलिस अविलंब गिरफ्तार कर जेल भेजे।

वर्जन

पुराना हत्या का मामला है। करण हत्याकांड के तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है। पुलिस अन्य हत्यारोपी की तलाश में लगी है।

- विनय कुमार, सुदामडीह थाना प्रभारी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस