सिंदरी, जेएनएन। सेल के तासरा ओपनकास्ट प्रोजेक्ट पर स्थायी बंदी का खतरा मंडरा रहा है। तासरा ओपनकास्ट प्रोजेक्ट में कोयला का उत्पादन 31 मार्च 2018 से बंद है। भारत सरकार ने मेसर्स लेंको इंफ्राटेक नामक आउटसोर्सिंग कंपनी को तासरा ओपनकास्ट प्रोजेक्ट को विकसित करने और कोयला उत्पादन करने के लिए अधिकृत किया था। मेसर्स लेंको इंफ्राटेक को 28 वर्ष के लिए आवंटित किया गया था।
मेसर्स लेंको इंफ्राटेक ने 2017 में तासरा ओपनकास्ट प्रोजेक्ट को विकसित कर कोयला उत्पादन शुरू किया था। परंतु बाद में कंपनी रुग्ण हो गई और उसे दिवालिया घोषित कर दिया गया। इस बीच लेंको इंफ्राटेक कंपनी के साझेदार मेसर्स त्रिवेणी रामका ने लेंको इंफ्राटेक कंपनी से पावर ऑफ एटार्नी लेकर प्रोजेक्ट में उत्पादन शुरू किया। परंतु लेंको इंफ्राटेक कंपनी के दिवालिया घोषित होने के बाद उसके द्वारा जारी पावर आफ एटार्नी का कानूनी रूप से कोई महत्व नहीं था। लगभग सात महीने तक कोयला उत्पादन करने के बाद भारत सरकार और सेल प्रबंधन ने मेसर्स त्रिवेणी रामका को कोयला उत्पादन करने की इजाजत नहीं दी। परिणाम स्वरूप 31 मार्च 2018 से सेल का टासरा ओपनकास्ट प्रोजेक्ट में कोयला उत्पादन बंद है।
आउटसोर्सिंग कंपनी के दिवालिया विवाद के कारण तासरा ओपनकास्ट प्रोजेक्ट को अब बंद कर दिया गया है। सेल प्रबंधन की ओर से री टेंडर का प्रयास किया गया था। लेकिन, भारत सरकार ने इसकी स्वीकृति भी नहीं दी। प्रोजेक्ट पर छाए अनिश्चितता के बादल से ऐसा आभास हो रहा है कि सेल का तासरा ओपनकास्ट प्रोजेक्ट स्थायी रूप से बंद हो जाएगा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस