जागरण संवाददाता, धनबाद। स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 की रैंकिंग में चूकने के बाद नगर निगम ने सीख ले ली है। यही कारण है कि निगम स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 में रैंक सुधारने के लिए कोई कसर बाकी नहीं रखना चाह रहा। इसकी तैयारी शुरू हो चुकी है। शहरभर की दीवारों को स्वच्छता संदेशों से रंगने के बाद अब निगम लोगों को स्वच्छता का पाठ पढ़ाने जा रहा है। यह काम नगर निगम का स्वच्छता रथ करेगा। यह रथ सभी पांचों अंचल के विभिन्न वार्ड में घूमकर लोगों को स्वच्छता के प्रति न सिर्फ जागरूक करेगा, बल्कि फीडबैक भी लेगा। लोगों को ब्लू-ग्रीन की शपथ भी दिलाई जाएगी। स्वच्छता रथ के माध्यम से प्रतिदिन क्विज प्रतियोगिता कराई जाएगी। इसमें साफ सफाई से संबंधित प्रश्न पूछे जाएंगे। यह प्रश्न निगम क्षेत्र की सफाई से संबंधित होगा। प्रतिदिन स्वच्छता सुपरस्टार का चयन कर पुरस्कृत किया जाएगा।

सर्वेक्षण का पहला चरण जुलाई से

स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 का पहला चरण जुलाई से अगस्त, दूसरा चरण सितंबर से अक्टूबर और चौथा चरण नवंबर से दिसंबर के बीच होगा। स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 में धनबाद को 33वां रैंक मिला था। इस बार सालिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट, बायोमेडिकल वेस्ट प्लांट, सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट और कंस्ट्रक्शन एंड डिमोलिशन प्लांट बनवाने पर अधिक जोर दिया जा रहा है। इस वर्ष सभी योजनाओं के धरातल पर उतरने की संभावना है।

7500 अंकों का स्वच्छता सर्वेक्षण 2022, सिटीजन फीडबैक में 2250 अंक

स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 इस बार 7500 अंकों का होगा। पिछली दफा यह छह हजार अंकों का था। सिटीजन फीडबैक के लिए 2250 अंक निर्धारित किया गया है। यह धनबाद नगर निगम का मजबूत पक्ष रहा है। पिछली दफा भी अन्य निकाय की तुलना में धनबाद नगर निगम को बेहतर अंक मिला था। फीडबैक के लिए निगम ने टोल फ्री नंबर 18008904160 जारी किया है। एप के माध्यम से भी लोग अपने शहर को बेहतर रैंकिंग देने के लिए फीडबैक दे सकेंगे। एसएस 2022 एप डाउनलोड कर लोग फीडबैक दे सकते हैं। इस बार रैंकिंग छह हजार की जगह 7500 अंकों पर जारी होगी। इसमें 2250 अंको का सिटीजन फीडबैक, 3000 अंकों का सर्विस लेवल प्रोग्रेस और 2250 अंकों का सर्टिफिकेशन शामिल है।

स्वच्छत सर्वेक्षण 2022 में बेहतर रैंक हासिल करना है। पूरी टीम लगी हुई है। दीवार लेखन, स्वच्छता रथ, क्विज, सिटीजन फीडबैक समेत तमाम कारकों के जरिए जनमानस में सफाई से संबंधित जागरूकता का प्रसार करना है। शहर की सफाई में जनमानस की सहभागिता के महत्व को आमजन तक पहुंचाना है। आम जनता तक संदेश पहुंचाना है कि शहर की साफ सफाई निगम के साथ-साथ आम जनों के सहयोग के बिना संभव नहीं है। यदि धनबाद की जनता शहर की सफाई में सहयोग प्रदान करती है तो निश्चित तौर पर शहर की साफ सफाई में सुधार आएगा।

- सत्येंद्र कुमार, नगर आयुक्त

Edited By: Mritunjay