धनबाद, जेएनएन। स्कूली छात्रों को सड़क सुरक्षा से अवगत कराने के लिए सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय भारत सरकार ने विस्तृत कार्ययोजना बनाई है। चार फरवरी से 10 फरवरी तक हर दिन 'सड़क सुरक्षा-जीवन रक्षा' थीम के तहत कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। मंत्रालय की ओर से यह 30 वां राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह आयोजित किया जा रहा है। इस संबंध में डीईओ डॉ. माधुरी कुमारी ने सभी कोटि के उच्च विद्यालय, कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय, कॉलेज, सीबीएसई एवं आइसीएसई स्कूलों को पत्र जारी किया है। इसमें कहा गया है कि सातवीं कक्षा से ऊपर के छात्र भाग लेंगे। तिथिवार कार्यक्रम का आयोजन कर फोटो एवं वीडियो सड़क सुरक्षा सेल कार्यालय या डीईओ कार्यालय में जमा करना है। स्कूल-कॉलेज में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले एक प्रतिभागी छात्र-छात्रा को नौ फरवरी को दोपहर एक बजे न्यू टाउन हाल में पुरस्कृत किया जाएगा।

ये होंगे कार्यक्रम

- 4 फरवरी : छात्रों को सड़क सुरक्षा संबंधी उपकरण, संकेतक, ट्रैफिक लाइट की जानकारी देना।

- 5 फरवरी : सड़क सुरक्षा विषय पर छात्रों के बीच निबंध एवं क्विज प्रतियोगिता।

- 6 फरवरी : स्कूल-कॉलेज में स्लोगन-पोस्टर एवं रंगोली बनाना।

- 7 फरवरी : स्कूल-कॉलेज में वाद-विवाद प्रतियोगिता एवं दीवार पर सड़क सुरक्षा पेंटिंग।

- 8 फरवरी : स्कूल-कॉलेज के बाहर आसपास की सड़कों का निरीक्षण एवं पाई गई कमियों की सूची बनाना।

- 9 फरवरी : स्कूल-कॉलेज स्तर पर सर्वश्रेष्ठ स्थान प्राप्त प्रतिभागियों का न्यू टाउन हाल में सम्मान।

- 10 फरवरी : पोषक क्षेत्र में सुबह सात से आठ बजे के बीच प्रभातफेरी निकालना।

सड़क सुरक्षा-जीवन रक्षाः स्कूली छात्रों को सड़क सुरक्षा से अवगत कराने के लिए सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय भारत सरकार की ओर से आयोजित 'सड़क सुरक्षा-जीवन रक्षा' कार्यक्रम का उद्देश्य ट्रैफिक नियमों के प्रति छात्रों को जागरूक करना है। छात्र ट्रैफिक नियमों को जानेंगे तो इसका पालन करेंगे। इससे सड़क दुर्घटनाओं में कमी आएगी। 

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: mritunjay