धनबाद, जेएनएन : सरकारी स्कूल के शिक्षक अब यह बताएंगे कि विद्यालय के कितने छात्र टीवी पर दूरदर्शन के शैक्षिक कार्यक्रम दैनिक आधार पर देख सकेंगे। आप जिस क्लास के वर्ग शिक्षक हैं उस कक्षा में कितने विद्यार्थियों के पास इंटरनेट सुविधा वाला स्मार्ट फोन उपलब्ध है।

क्लास में कितने बच्चे हैं। कितने बच्चों को क्लासटीचर ने ग्रुप से जोड़ा है। बच्चों को स्कूल के व्हाटसप ग्रुप से नहीं जोड़ने केे कारण दें। स्मार्टफोन रहने पर भी ग्रुप से नहीं जुड़ने वाले छात्र। जिले के सरकारी स्कूल के शिक्षकों को अब प्रतिदिन इसकी जानकारी विभाग को देने के लिए माथापच्ची करनी पड़ रही है।

इन सभी सवालों का जवाब देने के लिए विभाग की ओर से बाकायदा गुगल शीट पर एक फार्मेट जारी किया गया है। इस आवेदन को प्रतिदिन शिक्षकों को भरना है जिसमें राज्य मुख्यालय स्तर से जारी दर्जनों सवालों का जवाब देगें ताकि विभाग को यह पता चल सके कि कितने बच्चों को रोजना डिजिटल कांटेट प्राप्त हो रहा है।

पिछले 10 दिनों से बच्चों को डिजिटल कांटेंट व्हाटसप ग्रुप पर भेजा जा रहा है। इसलिए राज्य मुख्यालय ने प्राथमिक तथा मध्य विद्यालय में कार्यरत सभी शिक्षकों को अनिवार्य रूप से प्रतिदिन इसे भरने का निर्देश दिया है।

यह भी जानकारी देनी है कि प्रत्येक दिन 10 अभिभावकों से संपर्क कर डिजी साथ एप के बारे में बता रहे हैं या नहीं। बताते चले कि जिले के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले दो लाख से भी अधिक बच्चों में से आधे अभिभावकों के पास स्मार्ट फोन नहीं है। जिसके कारण वे ऑनलाइन नहीं जुड़ पा रहे हैं। इस कारण ऐसी संभावना है कि बच्चों के लिए आगे चलकर पिछले सत्र की तरह दूरदर्शन फ्री डिस तथा दूरदर्शन चैनल पर कक्षावार शैक्षिक कार्यक्रम का प्रसारण किया जाए।