जागरण संवाददाता, धनबाद : किसी भी राष्ट्र का इतिहास, उसके वर्तमान और भविष्य की नींव होता है। जिस देश का इतिहास जितना गौरवमयी होगा, वैश्विक स्तर पर उसका स्थान उतना ही ऊंचा माना जाएगा। विश्व विरासत के स्थल किसी भी राष्ट्र की सभ्यता और उसकी प्राचीन संस्कृति के महत्वपूर्ण परिचायक माने जाते हैं। संयुक्त राष्ट्र की संस्था यूनेस्को ने विरासत को अनमोल मानते हुए और लोगों से इन्हें सुरक्षित और संभाल कर रखने के उद्देश्य से ही इस दिवस को मनाने का निर्णय लिया था। अब केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने भी देश की ऐतिहासिकता से छात्रों को रूबरू कराने के लिए ठोस कदम उठाया है। सीबीएसई ने विद्यार्थियों को ऐतिहासिक विरासत से जोड़ने के लिए एक पोर्टल शुरू किया है। इस पोर्टल के माध्यम से विद्यार्थी अपने-अपने शहर के हेरिटेज और ऐतिहासिक स्मारकों की खुद ब्राडिंग यानी प्रचार-प्रसार कर सकेंगे। विरासत के बारे में लिख सकेंगे छात्र

सीबीएसई की ओर से शुरू किए गए पोर्टल में छात्र-छात्राओं के लिए एक कॉर्नर बनाया गया है। विद्यार्थी इस कॉर्नर की मदद से अपनी विरासत से तो वाकिफ होंगे ही, साथ ही छात्रों को विरासत के बारे में लिखने का भी मौका मिलेगा। इतना ही नहीं छात्र अपनी विरासत पर डॉक्यूमेंट्री और शॉर्ट मूवी भी पोर्टल पर अपलोड कर पाएंगे। हेरिटेज क्विज बुक तैयार होगी

शहर के सीबीएसई स्कूलों में अब हेरिटेज से संबंधित गतिविधिया व प्रतियोगिताएं होंगी। सीबीएसई ने ऐसी गतिविधियों के आयोजन के लिए पहली बार द हेरिटेज क्विज बुक तैयार की है। इस बुक में हेरिटेज से संबंधित तथ्यों को शामिल किया गया है। इस बुक में संशोधन के लिए छात्र अपनी रचनात्मक प्रतिक्रिया बोर्ड को दे सकते हैं। जिससे पुस्तक को बेहतर बनाया जा सके। बोर्ड का मानना है कि इस बुक से छात्रों में नई जानकारी प्राप्त करने की ललक बढ़ेगी। बोर्ड ने स्कूलों को कहा है कि इस पुस्तक को स्कूल हेरिटेज गतिविधियों व प्रतियोगिताओं को आयोजित करने के लिए इस्तेमाल करें।

वर्जन

ऐसे कई भारतीय ऐतिहासिक धरोहर और भ्रमण स्थल हैं जो हमारी संस्कृति और परंपरा के प्रतीक हैं। सीबीएसई के इस निर्णय से छात्र अपनी ऐतिहासिक विरासत को भलीभांति समझ सकेंगे। इस संबंध में सीबीएसई की ओर से स्कूलों को निर्देश जारी किया गया है।

- टीके सिन्हा, डिस्ट्रिक्ट कोऑर्डिनेटर, सीबीएसई

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप