धनबाद : पिछले एक महीने में डीवीसी ने धनबाद की जनता को एहसास करा दिया है कि जनता ने गलत जनप्रतिनिधियों का चुनाव किया था, जिससे उन्हें बिजली संकट झेलना पड़ रहा है। बिजली, पानी संकट से जूझ रही धनबाद की जनता अब तनिक भी बोलने से परहेज नहीं कर रही है कि जनप्रतिनिधियों को इस बार चुनाव में सबक सिखाना है।

शहर के प्रत्येक गली-मुहल्ले में जनप्रतिनिधियों के खिलाफ जनता मुखर होने लगी है। सरकार के उदासीन रवैये के कारण अभी से ही लोग चुनाव को लेकर गोलबंद होने लगे हैं। विपक्षी दलों के स्थानीय नेता भी अब जनता के आक्रोश को बढ़ावा दे रहे हैं। जनता सीधे तौर पर सांसद-विधायकों को दोषी ठहरा रही है। शहर में लोग अब बेहिचक बोलते मिल जाएंगे कि जब तक सांसद-विधायकों को बदला नहीं जाएगा, 24 घंटे बिजली नसीब नहीं होगी। इस सरकार सपना दिखाने का प्रयास कर रही है, लेकिन धरातल पर कुछ और है।

-------------

तीज में भी तरसे लोग, गणपति को कैसे लगेगा भोग?

धनबाद : हर दिन की भांति बुधवार को भी पूरा शहर बिजली-पानी के बिना तरस गया। शहर के अधिकांश घरों में महिलाएं तीज करती हैं। ऐसी स्थिति में ही दिन भर बिजली आंख मिचौनी करती रही। सुबह सात बजे ही डीवीसी ने लोड शेडिंग के नाम पर 33 केबी गोधर वन, टू की दोनों लाइनें बंद कर दी, जिससे लोग पानी के लिए तरस गए। वहीं, शाम 7 बजे से 09 बजे तक डीवीसी ने दोबारा दो घंटे की लोड शेडिंग की। गुरुवार को पूरे शहर में गणेश चतुर्थी मनाई जाएगी, ऐसे में लोग कैसे भगवान की पूजा कर पाएंगे? बता दें कि डीवीसी द्वारा हर दिन छह से आठ घंटे तक लोड शेडिंग के नाम पर बिजली कटौती की जा रही है। वहीं, विभाग भी मरम्मत के नाम पर हर दिन घंटों बिजली काटने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। शहर का कोई ऐसा इलाका नहीं है, जहां प्रत्येक हर दिन घंटों बिजली नहीं कट रही है। बिजली के लिए शहर के व्यवसायिक वर्ग, चैंबर के लोग आंदोलन कर थक हार चुके हैं। जिले के कई इलाकों में आम नागरिक भी बिजली संकट को लेकर सड़क पर उतर चुके हैं, पर समस्या का समाधान नहीं हुआ। बिजली की दशा प्रत्येक दिन, खराब हो रही है। मंगलवार की रात साढ़े 12 बजे के करीब भी डीवीसी ने दो घंटे तक लोड शेडिंग की थी, जिससे पूरा शहर अंधकार में डूब गया था।

--------------

जेबीवीएन को छोड़ सभी उद्योग व फैक्ट्री को मिल रही 24 घंटे बिजली

धनबाद : डीवीसी राज्य सरकार को बिजली देने के लिए कोयला की कमी व बिजली उत्पाद में गिरावट की बात करती है, पर सच्चाई है कि डीवीसी जिस उद्योग, फैक्ट्री तथा संस्थान को डायरेक्ट बिजली आपूर्ति करती है, से 24 घंटे बिजली मिल रही है। डीवीसी द्वारा लोड शेडिंग का खेल केवल बिजली विभाग से जुड़े उपभोक्ताओं के लिए ही हो रहा है। पूर्व में आइआइटी आइएसएम भी विभाग से बिजली ले रहा था, पर अब कुछ दिनों से डीवीसी से डायरेक्ट बिजली खरीद रहा है, जिससे शहर में भले ही बिजली न रहे, आइएसएम में हमेशा रहती है।

---------------

आज फिर बैंकमोड़ इलाके में नहीं रहेगी बिजली

धनबाद : गुरुवार को भी बैंकमोड़ समेत दर्जनों इलाके में बिजली नहीं रहेगी। मरम्मत कार्य के नाम पर बिजली विभाग 11केवी लाइन बैंकमोड़ फीडर को सुबह 7 बजे से दिन में 11 बजे तक बंद करेगा। इस दौरान बैंकमोड़, विकास नगर, झरिया रोड, पंजाबी मुहल्ला, मटकुरिया, मिठाई गली, कतरास रोड, करबला रोड, झरिया रोड, आदि इलाकों में बिजली नहीं रहेगी।

Posted By: Jagran