धनबाद : कुष्ठ रोगियों के दिन बहुरने वाले हैं। स्वास्थ्य चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग की ओर से कुष्ठ रोग खोज अभियान की शुरुआत की जा रही है। राज्य के सात जिलों में खोजी दल का गठन पर कुष्ठ रोगियों की तलाश की जाएगी। इसमें धनबाद समेत रामगढ़, चाइबासा, सरायकेला, गुमला, लातेहार एवं चतरा जिला शामिल है।

इस अभियान के सफल संचालन के लिए परिवार कल्याण विभाग ने स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग को पत्र जारी किया है। इस पत्र के आलोक में शिक्षा सचिव ने डीईओ को कार्यक्रम के संचालन के लिए निर्देश दिया है। पत्र में स्पष्ट कर दिया है कि कुष्ठ रोग खोज अभियान 22 अक्टूबर से 6 नवंबर तक चलाया जाना है। अभियान में ग्राम स्तर पर सहिया एवं एक पुरुष स्वैच्छिक कार्यकर्ता का खोजी दल बनाया गया है। एएनएम, स्वास्थ्य प्रशिक्षक, निगरानी निरीक्षक को पर्यवेक्षक बनाया गया है। इसमें प्रत्येक पांच खोजी दल पर एक पर्यवेक्षक को जिम्मेवारी दी गई है।

------------------

खोजी दल का कार्य

खोजी दल, घर-घर जाकर जागरूकता एवं त्वचा जांचकर संदेहास्पद रोगियों की सूची तैयार करेंगे। इन रोगियों को पर्यवेक्षक की मदद से चिकित्सक के पास भेजना सुनिश्चित करेंगे। कुष्ठ रोग संपुष्ट होने के बाद निबंधन एवं उपचार दिया जाएगा। माध्यमिक एवं प्लस टू हाई स्कूलों के शिक्षकों को बच्चों में इस रोग के लक्षण, जांच, उपचार एवं भ्रांतियों के संबंध में जागरूक किया जाए। जिला एवं प्रखंड स्तर पर होने वाली बैठक में संबंधित विभाग के प्रतिनिधि की सहभागिता। आवासीय विद्यालयों में सर्वेक्षण के दौरान त्वचा जांच में खोजी दल को सहयोग प्रदान करना।

Posted By: Jagran