धनबाद : प्रारंभिक विद्यालयों में बच्चों को मिलने वाला मध्याह्न भोजन का स्वरूप अब बदल जाएगा। प्रारंभिक विद्यालयों में संचालित मध्याह्न भोजन के भुगतान में पारदर्शिता लाने के उद्देश्य से अब डिजिटल मोड में सामग्री खरीदी जाएगी। इसके लिए सिगल नोडल एकाउंट का सिस्टम तैयार किया गया है। स्कूलों में पका भोजन उपलब्ध कराने के लिए पूर्व के तरह ही मध्याह्न भोजन संचालित होगा। सिर्फ नकदी लेन देन बंद हो जाएगा। सिगल नोडल एकाउंट से स्कूल का अकाउंट जुड़ा रहेगा। जैसे ही वह पैसा किसी दुकानदार के खाते में जाएगा। वैसे ही इसकी जानकारी मध्याह्न भोजन निदेशालय और शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के पास पहुंच जाएगी। जिला शिक्षा अधीक्षक इंद्र भूषण सिंह ने बताया कि केवल मध्याह्न भोजन ही नहीं, बल्कि स्कूलों को विभिन्न मदों में मिलने वाली राशि भी सिगल नोडल अकाउंट के माध्यम से ही भुगतान किया जाएगा। उन्होंने बताया कि लेखा-जोखा से जुड़े तमाम हिसाब-किताब को अधिक कार्यकुशल तरीके से और पारदर्शी तरीके से करने के लिए सिगल नोडल अकाउंट व्यवस्था को लागू किया गया है। 1727 विद्यालयों में 49 विद्यालयों :

जिले के 1727 सरकारी विद्यालयों में को स्कूल मद में राशि आवंटित की गई है। इस राशि को 31 जनवरी तक विद्यालयों को खर्च करना है। इस राशि के तहत रंग रोगन, बैंच डेस्क, चौक, डस्टर सहित अन्य मदों में खर्च होनी है। लेकिन राशि आवंटित होने के बाद भी अभी तक महज 49 विद्यालयों ही राशि खर्च कर पाया है। यदि यह राशि समय पर खर्च नहीं हो पाई तो अगले वित्तीय वर्ष में स्कूल मद में मिली राशि कम कर दी जाएगी।

Edited By: Jagran