धनबाद, जेएनएन। पूरी दुनिया पर कोरोना वायरस हावी है। अब तक 24 हजार से ज्यादा लोगों की माैत हो चुकी है। भारत में भी माैत का आंकड़ा एक दर्जन पार कर गया है। संक्रमित मरीजों की संख्या 700 के करीब हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर भारत 21 दिनों के लॉकडाउन है। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए प्रधानमंत्री ने सोशल डिस्टेसिंग की बात की है। इसके बाद कोरोना से बचाव के लिए जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। ऐसे में धनबाद से सटे चंदनकियारी के सैंडआर्टिस्ट अजय शंकर महतो ने भी अपने खास अंदाज में कोरोना वायरस से बचाव के लिए संदेश दिया है।

कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए जनजागरूकता अंतर्गत दामोदर नदी के तट पर चंदनकियारी निवासी सैंड आर्टिस्ट अजय शंकर महतो ने गुरुवार को अद्भुत कलाकृति रेत पर उकेरी। यह कलाकृति संदेश दे रही है कि भीड़भाड़ न जमने दें और न ही भीड़ का हिस्सा बनें, अपने घर मे कैद हो जाएं, सोशल डिस्टेंस बनाकर रखें, हाथों को साबुन से धोएं। महतो की कलाकृति देखते ही बन रही है।

कोरोना पर नियंत्रण के लिए आदिवासियों ने सिंदरी में की पूजा

कोरोना महामारी को रोकने के लिए बुधवार को आदिवासियों ने अपने देवता की पूजा-अर्चना की। शहरपुरा में नायके महालाल हेंब्रम ने महामारी कोरोना वायरस के खात्मे के लिए ईस्ट देवता मरांग बुरु और जाहेर एरा की आदिवासी परंपरा व रीति-रिवाज से पूजा की। सिंदरीवासियों के साथ देश के लोगों की सुख-समृद्धि की कामना की। आदिवासियों का समुदाय देव स्थान जायर थान में एकत्र हुआ और नायके के साथ पूजा स्थल पर बैठे। नायके अपने हाथ में एक लोटा में पानी लेकर भूमि पर डालते हुए देवताओं का आह्वान किया। कहा कि आप आओ और धरती पर कोरोना वायरस नामक महामारी पर रोक लगाओ। इसके बाद नायके ने पूजा समाप्ति की घोषणा की।

Posted By: Mritunjay

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस