जागरण संवाददाता, धनबाद। आज 15 अक्टूबर, 2021 को विजयादशमी है। देश में दशहरा और विजयादशमी की धूम है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भी विजयादशमी उत्सव मना रहा है। साल 1925 में विजयादशमी के दिन ही आरएसएस की स्थापना हुई थी। इस उपलक्ष्य में हर साल विजयादशमी को आरएसएस विजयादशमी उत्सव मनाता है। यूं तो देश भर में विजयादशमी उत्सव मनाया जाता है। लेकिन मुख्य कार्यक्रम आरएसएस मुख्यालय नागपुर में होता है। यहां पर सरसंघचालक स्वयंसेवकों को संबोधित करते हैं। इस साल भी सरसंघचालक डा. मोहन भागवत ने संबोधित किया। उनके संबोधन का प्रसारण इंटरनेट मीडिया के विभिन्न माध्यमों के साथ ही टीवी चैनलों पर हुआ। धनबाद समेत पूरे झारखंड के स्यवंसेवकों और संघ विचारधारा से जुड़े लोगों ने ध्यान संघ प्रमुख के संबोधन को सुना। इसके बाद सोशल मीडिया पर संघ प्रमुख के संबोधन के मुख्य बातों को साझा किया जा रहा है।

जनसंख्या पर कह दी बड़ी बात

संघ प्रमुख डा. मोहन भागवत ने कहा कि वर्ष 1951 से 2011 के बीच जनसंख्या वृद्धि दर में भारी अंतर के कारण देश की जनसंख्या में जहां भारत में उत्पन्न मत पंथों के अनुयायियों का अनुपात 88% से घटकर 83.8% रह गया है। वहीं मुस्लिम जनसंख्या का अनुपात 9.8% से बढ़कर 14.24% हो गया है। जनसंख्या के असंतुलन पर चिंता जताते हुए उन्होंने कहा कि जनसंख्या नीति होनी चाहिए। हमें लगता है कि इस बारे में एक बार फिर विचार करना चाहिए। यूपी समेत देश में कई भाजपा शासित राज्य सराकरों ने जनसंख्या नियंत्रण पर कानून बनाई है या बनाने पर विचार कर रही है। इसका एक तरह से संघ प्रमुख का भाषण समर्थन है। संघ प्रमुख के भाषण का वीडियो स्वयंसेवक और भाजपा के नेता-कार्यकर्ता शेयर कर रहे हैं। झारखंड विधानसभा में भाजपा विधायक अनंत ओझा ने भी ट्वीट किया है। 

Edited By: Mritunjay