जागरण संवाददाता, धनबाद: अब जिले के सभी विद्यालयों में डोर स्टेप-डिलिवरी के तहत चावल की आपूर्ति की जाएगी। इससे स्कूलों में एमडीएम चावल को लेकर आ रही समस्याओं से काफी हद तक निजात मिलेगी। मध्याह्न भोजन योजना के चावल की डोर स्टेप-डिलिवरी की व्यवस्था जनवरी 2023 से शुरू होगी। इसको लेकर शिक्षा सचिव के आदेश पर कवायद शुरू हो गई है।

इस बाबत जिले के सभी प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी, अवर विद्यालय निरीक्षकों को पत्र जारी किया गया है। विभागीय सचिव से प्राप्त निर्देश के अनुसार, प्रखंड से विद्यालय तक चावल पहुंचाना है। इस संबंध में कई निर्देश दिए गए हैं। वितीय वर्ष 2022-23 में जनवरी 2023 से सभी विद्यालयों तक चावल पहुंचाने की व्यवस्था इसी निर्देश के आलोक में करनी है। इसे उपायुक्त सह अध्यक्ष जिला स्तरीय स्टेयरिंग सह माॅनीटरिंग कमेटी के आदेश से डोर स्टेप-डिलिवरी के माध्यम से कराना है। इसके लिए स्वतंत्र एजेंसी का चयन किया जाना है। एजेंसी के चयन के लिए विज्ञापन पांच दिसंबर 2022 तक प्रकाशित कर देना है।

इसे लेकर प्रखंड के सभी विद्यालयों के बारे में कई जानकारी मांगी गई है। इसमें प्रखंड का नाम, विद्यालय का नाम, नामांकित छात्राें की संख्या, यूडायस कोड, प्रधानाध्यापक का नाम, मोबाइल नंबर, संयोजिका का नाम और उसका मोबाइल नंबर प्रखंड से विद्यालय की सड़क मार्ग से दूरी (किलोमीटर) में मांगी गई है।

बताते चलें कि डोर स्टेप डिलिवरी की व्यवस्था से मध्याह्न भोजन का चावल भेजने को लेकर अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ धनबाद इसके लिए हमेशा मुखर और आंदोलित रहा है। संघ के जिलाध्यक्ष संजय कुमार और महासचिव नंद किशोर सिंह ने कहा कि विभागीय सचिव द्वारा विद्यालयों तक डोर स्टेप डिलिवरी की व्यवस्था से मध्याह्न भोजन का चावल भेजने का निर्देश एक सराहनीय कदम है। इस व्यवस्था से कई तरह की परेशानियों से निजात मिलेगी। संघ इस कदम का स्वागत करता है।

Edited By: Deepak Kumar Pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट