धनबाद, जेएनएन। रेलवे स्टेशन पर अब अपराधियों की इंट्री मुश्किल होने वाली है। आपराधिक गतिविधियों की रोकथाम के लिए रेलवे फेस रिकॉग्नाइज सिस्टम विकसित करने जा रही है। इसके तहत एक ऐसा सॉफ्टवेयर तैयार किया जा रहा है जो अपराधियों को देखते ही पहचान लेगा। सीसीटीवी कंट्रोल रूम में बैठे आरपीएफ को मॉनीटर पर ही इसकी खबर भी मिल जाएगी। एक खास तरह किस्म की आवाज के साथ अलर्ट मैसेज आएगा जिससे उस अपराधी को पकडऩा आसान होगा।

पूर्व मध्य रेल महाप्रबंधक ललित चंद्र त्रिवेदी ने यह जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि यात्रियों की सुरक्षा रेलवे की प्राथमिकता है। इसी के मद्देनजर सॉफ्टवेयर विकसित किया जा रहा है। जल्द ही यह सॉफ्टवेयर धनबाद स्टेशन पर लगाया जाएगा। इससे स्टेशन परिसर में अपराध में कमी आने की उम्मीद है। साथ ही इसकी मदद से अपराधियों को भी पकड़ा जा सकेगा।

ऐसे काम करेगा सॉफ्टवेयर

आरपीएफ और जीआरपी के पास जितने अपराधियों की तस्वीरें हैं, उनका डाटा अपलोड किया जाएगा। अब अगर उन अपराधियों में से कोई भी स्टेशन परिसर में आया तो सीसीटीवी में उसक तस्वीर कैद हो जाएगी। पहले से उसकी तस्वीर अपलोड रहने से सॉफ्टवेयर की मदद से तत्काल यह खबर मिल जाएगी कि उसने स्टेशन में इंट्री ले ली है। कंट्रोल रूम में बैठे आरपीएफ को मॉनीटर की स्क्रीन पर न सिर्फ तस्वीर दिखेगी बल्कि ब्लिंक भी करेगा। 

Posted By: Sagar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस