जागरण संवाददाता, धनबाद : कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए रेलवे अस्पताल ने भी अपनी तैयारी पुख्ता कर ली है। मंडल रेल अस्पताल में आक्सीजन प्लांट बनकर तैयार हो गया है। अब यहां भर्ती मरीजों के बेड तक आसानी से आक्सीजन पहुंचाया जा सकेगा। रेलवे ने यहां 500 लीटर प्रति मिनट आक्सीजन उत्पादन करने वाला प्लांट लगाया है। इसके साथ ही अस्पताल प्रबंधन ने सतर्कता के तौर पर आक्सीजन सिलेंडर भी स्टाक के लिए रखा है। अस्पताल के सीएमएस डा. संदीप कुमार ने बताया कि कोविड को देखते हुए अस्पताल में पुख्ता तैयारी की गई है।

रेलवे के तीन डाक्टरों को भी मिला एक्सटेंशन

रेलवे में काम करने वाले तीन डाक्टरों को भी सेवा विस्तार दिया गया है। इन डाक्टरों को फिलहाल कोरोना मरीजों के उपचार में लगाया गया है। सीएमएस ने बताया कि फिलहाल चिकित्सकों की कोई कमी नहीं है। मरीजों की स्थिति दूसरी लहर जैसी नहीं है, संक्रमित मरीज अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं, लेकिन उन्हें आक्सीजन की ज्यादा जरूरत नहीं हो रही है। अस्पताल में 24 घंटे सेवा के लिए डाक्टर और कर्मचारियों के अलग-अलग रोस्टर तैयार किए गए हैं। मरीजों के लिए आक्सीजन कंप्रेसर मशीन भी लगाए गए

रेल प्रबंधन की ओर से वार्ड में मरीजों के लिए आक्सीजन कंप्रेसर मशीन भी लगाए गए हैं। रेलवे अस्पताल में पहली बार मरीजों को तीन स्तर पर आक्सीजन की सप्लाई की जा रही है। वहीं जिला महामारी रोग नियंत्रण विभाग की ओर से अस्पताल में कोरोना की जांच के लिए किट भी उपलब्ध कराए जा रहे हैं। कोट

तीसरी लहर से निपटने के लिए अस्पताल में व्यापक तैयारी कर ली गई है। प्लांट से आक्सीजन की आपूर्ति भी शुरू हो गई है। अन्य कमियों को भी दूर कर लिया गया है।

डा. संदीप कुमार, सीएमएस, रेलवे अस्पताल

Edited By: Jagran