जागरण संवाददाता, धनबाद: धनबाद में पिछले दिनों हुई झारखंड विकास युवा मोर्चा (झावियुमो) के धनबाद जिलाध्यक्ष रंजीत सिंह की हत्या के मामले में पुलिस ने जांच का दायरा बढ़ा दिया है। वासेपुर गैंग के साथियों की तलाश में धनबाद पुलिस की दो टीम अपराधियों की तलाश में यूपी-बंगाल में छापेमारी कर रही है। शीघ्र ही इस हत्याकांड का खुलासा होगा। यह दावा सीआइडी के संगठित अपराध के आइजी रणजीत प्रसाद ने धनबाद में रंजीत सिंह हत्याकांड में चल रहे पुलिस अनुसंधान की समीक्षा के बाद किया है। वे गुरुवार को धनबाद पहुंचे थे, जहां कोयला तस्करी मामले में भी जांच की और पुलिस अधिकारियों के साथ रंजीत सिंह हत्याकांड की भी समीक्षा की। घायल मुन्ना खान के बयान के बाद पुलिस को अपराधियों के बारे में जानकारी हाथ लगी है, जिसके आधार पर छापेमारी चल रही है। धनबाद जेल में बंद प्रिंस जमशेदपुर जेल में बंद वासेपुर के फहीम खान का भांजा है। पूरे मामले को रंगदारी से जोड़कर देखा जा रहा है। आशंका है कि रंगदारी नहीं देने पर ही रंजीत सिंह की हत्या हुई है। अब प्रिंस को भी रिमांड पर लेकर पुलिस पूछताछ करेगी, ताकि रंजीत हत्याकांड से संबंधित विशेष जानकारी जुटाई जा सके।

गौरतलब है कि रंजीत सिंह हत्याकांड में रंजीत के बड़े भाई संजय सिंह के बयान पर धनबाद जेल में बंद प्रिंस खान, उसके भाई के अलावा गोधर के बिट्टू रवानी तथा राजेश चौहान के खिलाफ गोंदूडीह पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज की है।

Posted By: Jagran