संस, धनसार : सनकी पुत्र राहुल ने इस घटना को अंजाम सुनियोजित योजना के तहत दिया। वह अपनी मां और सौतेले पिता से काफी नाराज रहता था। इसलिए उसने सभी को मार डालने की योजना बनाई। उसने दो खंजर खरीद कर घर में लाया था। जब सब परिवार खाना खाकर रविवार की रात एक कमरे में सोए हुए थे, तब उसने देर रात इस घटना को अंजाम दिया। घटना को अंजाम देने से पहले वह दरवाजे को अंदर से बंद कर लिया था। धनसार थाना पुलिस का कहना है कि राहुल के शव के पास घटना में प्रयुक्त खंजर में खून लगा मिला है। वहीं दूसरा खंजर वीरेंद्र यादव के पैर के पास मिला। दूसरे खंजर को इस घटना में उपयोग नहीं किया गया। क्योंकि उसमें खून के निशान नहीं थे।

...

नशीला पदार्थ देकर हत्या करने की पुलिस ने जताई आशंका

घर के कमरे में मृत पड़े वीरेंद्र यादव के बाएं पैर में तीन जगह पर इस खंजर से प्रहार किए गए थे। इससे यह प्रतीत होता है कि वीरेंद्र ने अपने बचाव के लिए राहुल के साथ संघर्ष किया होगा। पुलिस को आशंका है कि राहुल ने पहले इन लोगों को नशीला पदार्थ दिया। इसके बाद घटना को अंजाम दिया होगा। हालांकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मामले का खुलासा हो पाएगा।

-----------------

वीरेंद्र ने 16 वर्ष पूर्व विधवा मीना से रचाई थी दूसरी शादी

मृतक वीरेंद्र की पत्नी मीना का मायका दुग्धा चंद्रपुरा में है। मीना के पहले पति की मौत हो चुकी है। मीना का पहले पति से एक पुत्र राहुल था। जब राहुल चार वर्ष का था। उसी वक्त 16 वर्ष पूर्व वीरेंद्र ने विधवा मीना से शादी रचाई थी। तब से मीना के पहले पति से जन्मे पुत्र राहुल अपने मामा संजय यादव के घर में रह रहा था। राहुल बड़ा हुआ तो मां की दूसरी शादी से काफी नाराज चल रहा था। इसी बीच वीरेंद्र का एक पुत्र रोहित मीना से हुआ। हालांकि राहुल अपनी मां और सौतेले पिता के पास गांधी रोड कभी-कभार ही आता-जाता था।

-------------------

फोरेंसिक जांच में भेजे जाएंगे कई पदार्थ

धनसार थाना पुलिस ने घटना वाले कमरे में मौजूद बनी चाय व दूध को जब्त किया है। पुलिस का कहना है कि इसे फोरेंसिक जांच के लिए रांची भेजेगी। पुलिस को इस चाय और दूध में नशीले पदार्थ मिलाए जाने का शक है।

....

राहुल ने निर्ममता से की हत्या :

सनकी राहुल ने पिता वीरेंद्र, मां मीना और सौतेले भाई रोहित के पेट में खंजर घोंपकर हत्या की। रोहित की आंत पेट से बाहर निकल गई थी। तीनों की हत्या करने के बाद राहुल ने अपने गले को भी खंजर से काटकर आत्महत्या कर ली।

..

वीरेंद्र राहुल को अपना पुत्र नहीं मानता था

राहुल तो मां की शादी के बाद मामा के पास रह गया। उसे मां की जुदाई हमेशा खलती रही, इसलिए वह कभी-कभार ही अपनी मां से मिलने गांधी रोड आता था। वीरेंद्र उसे अपनी संपत्ति में अधिकार न देकर अपना पुत्र मानने से भी इंकार करता था। इससे राहुल अक्सर तनाव में रहता था। राहुल अपने सौतेले पिता से इतना नाराज था कि उसे मुन्नवा कह कर पुकारता था। मीना ने कोलकाता में अपनी बहन के पास एक जमीन खरीदी थी। राहुल को लगने लगा कि वह अब इस परिवार के करीब अब नहीं आ पाएगा। तब उसने इस तरह की घटना को अंजाम दिया।

..

दो तल्ला मकान में रहते सात भाड़ेदार, वीरेंद्र भी एक था

धनसार के गांधी रोड में मुन्ना सिंह के दो तल्ला मकान में सात भाडे़दार रहते हैं। नीचे तल्ला में वीरेंद्र यादव, अनुज सिंह, सुधीर महाराज, वीरेंद्र पंडित और ऊपर तल्ला में विजेंद्र नाथ गुप्ता, आशुतोष शर्मा और हरेकृष्ण सिंह रहते हैं। जबकि सभी भाडे़दार इस घटना से स्वयं को अंजान बता रहे हैं। इन लोगों का कहना है कि इस घटना की भनक उन लोगों को नहीं लगी, जबकि पुलिस को यह बात पच नहीं रही है।

-------------

रोहित को दूसरे के घर से रात में बुलाया था राहुल

वीरेंद्र का पुत्र रोहित प्रतिदिन अपने दोस्तों के साथ पास रहनेवाले पाठक जी के घर पबजी खेलने जाता था। अपने घर में एक कमरा होने के कारण वह अक्सर दोस्तों के साथ पबजी खेलते-खेलते वहीं सो जाता था। रविवार को भी रोहित वहीं सो रहा था। तब राहुल उसे बुलाकर अपने घर ले आया। उसने रोहित से कहा कि घर चलो एक साथ सोएंगे। इसके बाद रोहित अपने घर राहुल के साथ चला गया। उसे क्या मालूम था कि राहुल ने उसकी हत्या की योजना बनाई है।

------------------

राहुल के नाना व नानी की हो चुकी है मृत्यु

राहुल के नाना रेलवे में कार्यरत थे। उनकी मृत्यु 2017 में और नानी की मृत्यु इसी वर्ष 19 फरवरी को हो गई थी। मामा संजय यादव दूसरी जगह रहकर काम करता है। इसलिए राहुल गांधी रोड आकर रहने लगा था। घटना की सूचना पाकर मृतक वीरेंद्र यादव के भाई जमशेदपूर से रवाना हो गए है। वीरेंद्र का पैतृक गांव बक्सर में है।

....

प्रथमदृष्टया जांच में यही लग रहा है कि राहुल ने सभी की हत्या कर खुदकशी कर ली है। हालांकि मामले की छानबीन जारी है। मृतक के स्वजनों के आने के बाद अज्ञात के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया जाएगा।

- जयराम प्रसाद, इंस्पेक्टर धनसार थाना।

Edited By: Jagran