जागरण संवाददाता, धनबाद : अन्य राज्यों से ट्रेन या बस से धनबाद आने वाले प्रवासी श्रमिकों के लिए पॉलीटेक्निक कॉलेज में जिला स्तरीय तथा हर प्रखंड में दो-दो संस्थागत क्वारंटाइन सेंटर 24 घंटे के अंदर तैयार किया जाएगा। शुक्रवार को उपायुक्त उमा शंकर सिंह ने वीडियो कांफ्रेंसिग के माध्यम से एसएसपी, डीटीओ, एनडीसी, सभी बीडीओ, सभी सीओ, आइडीएसपी व डीपीएम के साथ बैठक कर आवश्यक दिशा निर्देश दिया।

बैठक के दौरान उपायुक्त ने कहा कि अन्य राज्यों से धनबाद लौटने वाले सभी प्रवासी श्रमिकों का अनिवार्य रूप से आरएटी टेस्ट किया जाएगा। उन्हें संबंधित क्वारंटाइन सेंटर में सात दिन के लिए रखा जाएगा। सात दिन के बाद पुन: उनकी आरएटी किट से जांच की जाएगी। रिपोर्ट निगेटिव होने पर उन्हें घर भेजा जाएगा। पॉजिटिव आने पर आइसीएमआर के दिशा-निर्देश के अनुसार उन्हें ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड वाले कोविड फैसिलिटी में भेजा जाएगा। किसी भी प्रवासी श्रमिक को होम आइसोलेशन की सुविधा नहीं दी जाएगी।

बैठक के दौरान उपायुक्त ने संस्थागत क्वारंटाइन सेंटर की एसओपी से सभी को अवगत कराया। उन्होंने कहा कि क्वारंटाइन सेंटर में भोजन, पानी, बिजली सहित अन्य सभी बुनियादी सुविधाएं 24 घंटे के अंदर तैयार की जाएगी। सभी बीडीओ एवं सीओ मुखिया, पंचायत समिति सदस्य एवं यूएलबी से समन्वय स्थापित करते हुए प्रवासी श्रमिकों को क्वारंटाइन सेंटर में दाखिला करना सुनिश्चित करेंगे। प्रवासी श्रमिकों को पहले पॉलीटेक्निक कॉलेज में ले जाया जाएगा। जांच के बाद उन्हें संबंधित प्रखंड के क्वारंटाइन सेंटर पर भेजा जाएगा। प्रवासी श्रमिकों का रखा जाएगा पूरा ब्यौरा :

उपायुक्त ने कहा कि बाहर से आने वाले प्रवासी श्रमिकों का पूरा ब्यौरा रजिस्टर में रखा जाएगा। इसमें उनका नाम, वर्तमान पता, मोबाइल नंबर, कहां से आए हैं, किस क्वारंटाइन सेंटर में है, क्वारंटाइन होने की तिथि और क्वारंटाइन सेंटर से बाहर जाने की तिथि का पूरा ब्यौरा रखना होगा।

वीडियो कांफ्रेंसिग में एसएसपी असीम विक्रांत मिज, डीटीओ ओम प्रकाश यादव, एनडीसी अनुज बांडो, सभी बीडीओ, सभी सीओ, आइडीएसपी, डीपीएम, डीएमएफटी ऑफिसर शुभम सिघल, नितिन कुमार पाठक शामिल थे।