जागरण संवाददाता, पुटकी: निर्मम पिटाई के कारण हुई मौत के नामजद आरोपितों की गिरफ्तारी की माग को लेकर शुक्रवार को भागाबाध बस्ती की महिलाओं ने शव के साथ भागाबाध ओपी का का घेराव कर पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। करीब डेढ़ घटे तक ओपी के मुख्यद्वार के समक्ष शव रख घेराव किया गया। इस दौरान पूर्व मंत्री काग्रेस नेता मन्नान मल्लिक भागाबाध ओपी पहुंचे और सभी आरोपितों की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस से वार्ता की। वार्ता में पुलिस द्वारा सभी की गिरफ्तारी यथा शीघ्र करने का आश्वासन दिया। इसके बाद शव को हटाया गया।

यह है मामला: मृतक शेख रहमान (42) के बड़े भाई शेख नूर मोहम्मद की ओर से भागाबाध ओपी में दर्ज कराई गई प्राथमिकी के अनुसार मृतक पांच जुलाई को संध्या करीब पाच बजे भागाबाध बस्ती मस्जिद के पीछे जंगल में बकरी चरा रहा था। उसी समय भागाबांध बस्ती निवासी सलीम अंसारी, टिंकू अंसारी, गुलाब प्रसाद कुशवाहा, परणाम प्रसाद कुशवाहा, गुलाब प्रसाद कुशवाहा के छोटे बेटे ने मिलकर लाठी, डंडा, रॉड एवं कुल्हाड़ी से प्रहार कर उसके भाई शेख रहमान को गंभीर रूप से जख्मी कर दिया। आवेदन में मारपीट के दौरान छिनतई करने का भी आरोप लगाया गया है। आवेदन में आरोपितों के विरुद्ध कार्रवाई की माग की गई है। घटना के बाद परिजन जख्मी शेख रहमान को सबसे पहले पीएमसीएच ले गए। चिकित्सकों ने 5 जुलाई को ही घायल युवक की स्थिति को नाजुक देखते हुए रिम्स रांची रेफर कर दिया था। यहां इलाज के दौरान गुरुवार को मौत हो गई।

सब कुछ लुट गया, बीबी से बन गई बेवा: उस समय स्थिति अत्यंत मार्मिक हो गई जब ताबूत में रखा शव भागाबाध ओपी के गेट पर रखा गया और मृतक की बेवा शबनम बीबी दहाडे़ मारकर यह कहने लगी कि अब मैं बीबी नहीं रही। बेवा बन गई। हमारे दो बेटे और दो बेटिया अनाथ हो गए। यह देख वहा खड़े सभी लोगों की आखें नम हो गई। ओपी घेराव की सूचना पाकर केंदुआडीह अंचल के पुलिस निरीक्षक ई मिंज, पुलिस निरीक्षक सह पुटकी थाना प्रभारी अलविनुश वाडा, भागाबाध ओपी प्रभारी शिव नाथ बारदा, मुनीडीह ओपी प्रभारी जे एस कुजूर, समेत भारी संख्या में महिला पुलिस व पुलिस के जवान को बुलाया गया था।

By Jagran