धनबाद (भूली), जेएनएन। धनबाद के भूली कोयला क्षेत्र में कोलकर्मियों व गैर कोलकर्मियो के जीवन शैली से स्वीडन अमेरिका की प्रख्यात फोटोग्राफर व शोधक एना जॉनसन रूबरू हुईं। क्षेत्र संख्या 6 अंतर्गत गोन्दूडीह खरिकाबाद क्षेत्र के लोगों से मिलकर जानकारी ली। उन्होंने कहा शोध कर सरकार को रिपोर्ट देंगी।

कोयला खनन क्षेत्र में कोलकर्मियों और गैर कोलकर्मियों के जीवन, रहन सहन और कोल कंपनियों द्वारा इन क्षेत्रों में दिए जा रहे सुविधाओं पर शोध कर रही अमेरिकी फोटोग्राफर सह शोधकर्ता एना जॉनसन शुक्रवार को गोन्दुडीह कोलियरी के खरिकाबाद बस्ती के सभी बस्तियों का दौरा किया। यहां स्थानीय लोगों से बातचीत कर उनकी समस्याएं जानीं। साथ ही, कोल कंपनी द्वारा दी जा रही सुविधाओं का भी जायजा लिया।

दैनिक जागरण से खास बातचीत में एना ने बताया कि कोल कंपनी क्षेत्र में जमीन की आग एक बड़ी समस्या है, जिस पर सरकार और कोल कंपनियों को विचार करना चाहिए। साथ ही, पुनर्वास के दौरान इन लोगों को सभी सुविधा पर भी विशेष ध्यान देना चाहिए और खनन क्षेत्र में जीवन यापन कर रहे कोलकर्मियों के साथ साथ गैर कोलकर्मियों को भी कोयला मंत्रालय द्वारा पारित देय सुविधा को भी जन-जन तक पहुंचाना चाहिए। एना ने कहा कि कोयला क्षेत्र में निवास कर रहे लोगों के जीवन पर आधारित इस शोध को सरकार तक और उनके प्रकाशन में उकेरा जाएगा।

जानिए, क्या कहा लोगों ने

खरिकाबाद दस नंबर की रहने वाली सरस्वती देवी (50) वर्ष ने एना को बताया कि कोयला खनन क्षेत्र में निवास करने के दौरान सबसे बड़ी समस्या ब्लास्टिंग है। पूरे वर्ष जल समस्या का सामना करना पड़ता है। माकूल चिकित्सा व्यवस्था की भी सुविधा भी नहीं है। एक डिस्पेंसरी है भी तो कंपाउंडर के भरोसे। मुख्य सड़क मार्ग नहीं होने के कारण अक्सर भारी रकम अदायगी कर निजी अस्पतालों का रुख करना पड़ता है। इस मौके पर भोलानाथ राम, रविंद्र राम, कुलवंती देवी, सावित्री देवी,पूजा सिंह,कृष्ण यादव,भीम प्रामाणिक, राजेश ढाडी, दिनेश ढाडी समेत कई स्थानीय लोग उपस्थित रहे।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021