जागरण संवाददाता, धनबाद :

कोल इंडिया ने मौजूदा समय में बीसीसीएल को प्रति दिन एक लाख टन कोयला उत्पादन व डिस्पैच करने का लक्ष्य तय किया है। लेकिन बीसीसीएल इससे काफी पीछे है। स्थिति यह है कि चार एरिया में रैक से कोयला सप्लाई व ईस्टर्न झरिया एरिया में सोमवार (तृतीय पाली समाप्त) को भी उत्पादन शून्य रहा। लेकिन अन्य एरिया के सहारे बीसीसीएल ने आवश्यक रैक सप्लाई के लक्ष्य को पूरा किया। वहीं बीसीसीएल सीएमडी पीएम प्रसाद व तकनीकी निदेशक चंचल गोस्वामी ने एरिया की ऐसी स्थिति पर संबंधित अधिकारियों को कार्यप्रणाली में सुधार लाने की बात की। उन्होंने अधिकारियों को कोयला उत्पादन व डिस्पैच हर हाल में लक्ष्य को पूरा करें। साथ ही कहा कि समस्याएं सभी जगह है, लेकिन उसका समाधान करना जरूरी है। ईजे शून्य तो सीवी हजार टन से भी कम

ईस्टर्न झरिया (ईजे) एरिया ने सोमवार तृतीय पाली समाप्त होने तक एक टन कोयला भी डिस्पैच नहीं हो सका। जबकि 2900 टन डिस्पैच करने का लक्ष्य तय था। चांच विक्टोरिया एरिया बारह का 5200 टन कोयला उत्पादन का लक्ष्य था, जिसमें से मात्र 2400 टन ही उत्पादन हुआ। यहां रैक से सप्लाई शून्य रही।

19 रैक हुआ कोयला सप्लाई :

बीसीसीएल ने प्रत्येक दिन 18 रैक कोयला सप्लाई करना का लक्ष्य रखा है। सोमवार को बरोरा से एक, ब्लाक टू से दो, गोविदपुर से एक, सीवी, पी बी, डब्ल्यूजे व ईजे से शून्य, कतरास व सिजुआ से चार, कुसुंडा व बस्ताकोला से दो और लोदना से तीन रैक कोयले की सप्लाई हुई। मानसून को लेकर अलर्ट जारी :

रविवार रात से हो रही बारिश के कारण फिर से एक बार कोल इंडिया प्रबंधन ने कोयला कंपनियों को अलर्ट जारी करते हुए कहा कि कोयला उत्पादन व डिस्पैच पर ध्यान देते हुए सुरक्षा पर विशेष ध्यान दें। सेफ्टी विभाग को इसके लिए खासतौर पर ध्यान देने के लिए कहा गया है।

...........

बारिश के कारण 68 फीसदी उत्पादन व डिस्पैच पर असर

सोमवार को बारिश के कारण बीसीसीएल के कोयला उत्पादन व डिस्पैच पर काफी प्रभाव डाला। तकनीकी निदेशक संचालन चंचल गोस्वामी ने बताया कि सोमवार को बारिश ने 68 से 70 फीसद उत्पादन व डिस्पैच को प्रभावित किया है। वहीं 14 से 16 रैक ही कोयला सप्लाई हो पाया है। मंगलवार को भी इसका असर अधिक रहेगा। वैसे अधिकारियों को हर स्थिति पर नजर रखने का निर्देश दिया गया है।

Edited By: Jagran