धनबाद, जेएनएन। साल 2020-2021 के आम बजट में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने झारखंड की आदिवासी संस्कृति से देश व दुनिया को अवगत कराए के लिए रांची में आइकॉनिक ट्राइबल म्यूजियम का निर्माण करने की घोषणा की है। इसका संकेत तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड विधानसभा चुनाव- 2019 के प्रचार के दाैरान आदिवासी बहुल संताल क्षेत्र में दे दिया था। तब किसी को भी इसका भान न होगा कि सचमुच में झारखंड को जल्द ही आइकॉनिक ट्राइबल म्यूजियम का तोहफा मिलने जा रहा है। हालांकि विधानसभा चुनाव में मोदी की पार्टी भाजपा हार गई। इसके बावजूद मोदी ने झारखंड और संताल के आदिवासियों से किया अपना वादा निभाया है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 दिसंबर, 2019 को दुमका क्षेत्र में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए संताल विद्रोह के नायक बंधुओं-सिद्धो, कान्हो, चांद और भैरव को नमन करने के बाद कहा था-कल्पना कीजिए कि ये हमारे महापुरुष सिर्फ अपना भलाई सोचते तब क्या अंग्रेज हमारे देश से जाते ? ऐसे महापुरुषों के संस्कारों को भाजपा सम्मान देती है। हम सम्मान देते हैं। इन आदिवासी सेनानियों को अमर बनाने के लिए भाजपा सरकार लगातार नई योजनाएं बना रही हैं। देश भर में हम आदिवासी सेनानियों के नाम पर संग्रहालय बना रहे हैं। जनजातीय संस्कृति को संरक्षित करने के लिए हम संताली भाषा को समृद्ध कर रहे हैं। प्रधानमंत्री के भाषण के बाद किसी ने भी रांची में आइकॉनिक ट्राइबल म्यूजियम निर्माण की बात नहीं सोची थी। 

झारखंड की आदिवासी संस्कृति से देश व दुनिया को अवगत कराए के लिए राज्य में आइकॉनिक ट्राइबल म्यूजियम का निर्माण किया जाएगा। केंद्रीय बजट में 1 फरवरी, 2020 को इसकी घोषणा की गई है। यह म्यूजियम राजधानी रांची में बनेगा। रांची के अलावा देश के कुछ और चुनिंदा जिलों में आइकॉनिक म्यूजियम बनाए जाएंगे।जनजातीय मामलों के केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने रांची में आइकॉनिक ट्राइबल म्यूजियम बनने और जनजातीय क्षेत्र के विकास के लिए बजट में किए गए प्रावधान का स्वागत किया है और इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण को बधाई दी है। 

संताल के राजमहल विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले झारखंड प्रदेश भाजपा के महामंत्री अनंत ओझा आइकॉनिक ट्राइबल म्यूजियम के तोहफे के सवाल पर कहते हैं-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुनाव में हार-जीत के आधार पर कोई काम नहीं करते हैं। यही मोदी की राजनीति है और उनकी राजनीति की ताकत। उन्होंने कहा कि मोदी जिनता आदिवासियों को सम्मान देते हैं आज तक किसी भी प्रधानमंत्री ने नहीं दिया। इसका प्रमाण है संताल विद्रोह के नायक बंधुओं-सिद्धो, कान्हो, चांद और भैरव की धरती बरहेट आकर उनको नमन करना। 

Posted By: Mritunjay

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस