बेरमो, जेएनएन। इंटक के राष्ट्रीय महामंत्री और बेरमो के विधायक राजेंद्र प्रसाद सिंह की तेरहवीं पर शनिवार को ढोरी में राजनीतिक और प्रशासनिक हस्तियों का जुटान हुआ। न सिर्फ झारखंड बल्कि उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल के कई चर्चित चेहरे उपस्थित थे। कांग्रेस की राजनीति करने वाले सिंह की तेरहवीं में दूसरे पार्टियों से भी बड़ी संख्या में लोग जुटे। इस माैके पर पूर्वांचल के चर्चित डॉन बृजेश सिंह के भतीजे विधायक सुशील सिंह की भी उपस्थिति खास रही। सुशील पूरे लाव-लश्कर के साथ पहुंचे थे। अतिथियों की अगवाई में दिवंगत इंटक विधायक के दोनों बेटे-इंटक के राष्ट्रीय सचिव कुमार जयमंगल उर्फ अनूप सिंह एवं झारखंड प्रदेश युवा कांग्रेस के अध्यक्ष कुमार गौरव दिनभर जुटे रहे।

24 मई, 2020 को हुआ था राजेंद्र प्रसाद सिंह का निधन

झारखंड के बेरमो विधानसभा क्षेत्र का छह बार प्रतिनिधित्व करने वाले विधायक राजेंद्र प्रसाद सिंह का 24 मई, 2020 को गुरूग्राम के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया था। शनिवार को राजेंद्र बाबू की तेरहवीं पर ब्रह्मभोज का आयोजन किया गया। इसमें झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा, वर्तमान मंत्री चंपई सोरेन, बन्ना गुप्ता, बादल पत्रलेख, सत्यानंद भोगता, आलमगीर आलम, रामेश्वर उरांव, जगरनाथ महतो, विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष शशांकशेखर भोक्ता, पूर्व मंत्री ओपी लाला, गीताश्री उरांव, गिरिनाथ सिंह, मन्नान मलिक, जोबा मांझी, पश्चिम बंगाल के बैरकपुर से भाजपा सांसद अर्जुन सिंह, कोडरमा की सांसद अन्नपूर्णा देवी, सांसद गीता कोड़ा, विधायक सरफराज अहमद, डॉ. इरफान अंसारी, सोनाराम सिंकू, सुखदेव भगत, कमलेश सिंह, सांसद पीएन सिंह, विधायक राज सिन्हा, विरंची नारायण, ममता देवी, भूषण बाड़ा, डॉ. लंबोदर महतो, अंबा प्रसाद, पूर्व सांसद रवींद्र कुमार पांडेय, एडीजी आरके मलिक, डीआइजी प्रभात कुमार, कुलदीप द्विवेदी, एसपी चंदन कुमार झा, धनबाद के डिप्टी मेयर एकलव्य सिंह, एआइसीसी सदस्य संतोष सिंह, भाजपा नेता विनय कुमार सिंह आदि उपस्थित थे।

दुमका के साथ अब बेरमो विधानसभा क्षेत्र में होगा उपचुनाव

कांग्रेस विधायक राजेंद्र प्रसाद सिंह के निधन के बाद झारखंड विधानसभा में दो सीटें खाली हो गई हैं। सिंह बेरमो विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते थे। उनके निधन से यह सीट अब खाली है। इसी तरह दुमका विधानसभा सीट भी मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन द्वारा छोड़ देने के कारण खाली है। सोरेन ने दो सीटों से विधानसभा चुनाव जीता था। उन्होंने बरहेट से विधायक बने रहने का फैसला लेते हुए दुमका से इस्तीफा दिया। कोरोना संकट और लॉकडाउन के कारण अब तक दुमका विधानसभा का उप चुनाव नहीं कराया जा सका। अब लॉकडाउन समाप्त होने के बाद चुनाव आयोग दुमका के साथ ही बेरमो में उप चुनाव कराने की घोषणा करेगा। 

काैन होगा राजेंद्र बाबू का वारिस

यह तय है कि बेरमो विधानसभा उप चुनाव में कांग्रेस दिवंगत राजेंद्र प्रसाद सिंह के परिवार के किसी सदस्य को ही टिकट देगी। सिंह के दोनों बेटे-इंटक के राष्ट्रीय सचिव कुमार जयमंगल उर्फ अनूप सिंह एवं झारखंड प्रदेश युवा कांग्रेस के अध्यक्ष कुमार गौरव कांग्रेस की राजनीति में सक्रिय हैं। दोनों की राजनीतिक महत्वाकांक्षा भी है। दोनों चुनाव लड़ना चाहते हैं। अब कांग्रेस को तय करना है कि वह किसे उप चुनाव में प्रत्याशी बनाएगी। राजनीतिक हलकों में माना जा रहा है कि कांग्रेस राजेंद्र बाबू के जिस बेटे को उप चुनाव में प्रत्याशी बनाएगी वह उनका राजनीतिक वारिस होगा। दोनों बेटों के बीच सहमति न बनने पर कांग्रेस दिवंगत सिंह की पत्नी के नाम पर भी विचार कर सकती है। बेरमो की नजर इस बात पर टिकी है कि राजेंद्र प्रसाद सिंह का राजनीतिक वारिस काैन होगा?

Posted By: Mritunjay

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस