संवाद सहयोगी, गोड्डा: प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी 12 जुलाई को गोड्डा रेल स्टेशन को करीब 50 करोड़ की लागत से बनने वाले कोचिंग यार्ड डिपो की सौगात देंगे। यह परियोजना तीन फेज में पूरी होगी। कोचिंग डिपो (कोचिंग कांप्लेक्स) का पीएम देवघर से ही ऑनलाइन शिलान्यास करेंगे।

कोचिंग कांप्लेक्स बनने से गोड्डा स्टेशन से लंबी दूरी की ट्रेनों के कोच का रखरखाव सुलभ होगा। इससे यहां से लंबी दूरी की ट्रेनें चल सकेंगी व रेलवे की परियोजनाओं का विस्तार भी होगा। प्रधानमंत्री पहले चरण के कोचिंग डिपो की आधारशिला रखेंगे, जिसमें करीब 49.94 करोड़ रुपये की लागत आएगी। कोचिंग डिपो के दूसरे फेज में 45 करोड़ व तीसरे फेज में 48 करोड़ की लागत से कोचिंग कांप्लेक्स परियोजना का काम पूरा होगा। 12 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के देवघर दौरे के क्रम में कोचिंग कांप्लेक्स परियोजना के शिलान्यास को लेकर शनिवार को हावड़ा से पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक अरुण अरोड़ा स्पेशल ट्रेन से आला रेल अधिकारियों के साथ गोड्डा रेलवे स्टेशन पहुंचे। यहां उन्होंने कोचिंग कांप्लेक्स योजना की पूरी जानकारी टेक्निकल टीम से ली। कोचिंग डिपो स्थल का भी जायजा लिया।

इस बाबत जीएम अरोड़ा ने कहा कि आगामी 12 जुलाई को प्रधानमंत्री रेलवे की पांच परियोजनाओं की शिलान्यास करेंगे। इसमें पूर्व रेलवे की तीन परियोजनाएं भी शामिल हैं, जिनमें से एक है गोड्डा में कोचिंग डिपो का निर्माण। बताया कि रेलवे ने परियोजना की स्वीकृति दे दी है। 12 जुलाई को प्रधानमंत्री इसका विधिवत शिलान्यास करेंगे। इससे गोड्डावासियों को काफी फायदा होगा। बताया कि अब तक यहां से पासिंग थ्रू के तहत ट्रेनें चल रही है। कोचिंग डिपो बन जाने से यहां कोचों का रखरखाव होगा और कोच को परिचालन के लिए तैयार कर गोड्डा से रवाना किया जाएगा। इससे गोड्डावासियाें को आनेवाले दिनों में और ट्रेनें मिलेंगी व लंबी दूरी की ट्रेन भी गोड्डा से तैयार होकर खुल सकेगी।

भागलपुर कोचिंग डिपो पर ट्रेनों का भार अधिक

गोड्डा में कोचिंग डिपो का निर्माण पूरे संताल परगना क्षेत्र के लिए अच्‍छी खबर है। अबतक संताल परगना व अंग प्रदेश बिहार के बांका, भागलपुर को मिलाकर केवल भागलपुर में ही कोचिंग डिपो है। इस वजह से वर्तमान में इस कोचिंग डिपो का भार काफी अधिक है। ऐसे में अब गोड्डा में कोचिंग डिपो बन जाने से गोड्डा, दुमका, देवघर होकर लंबी दूरी की ट्रेनों का चलना तय हो गया है। इससे गोड्डा के साथ-साथ संताल परगना के लोगों को सबसे ज्यादा फायदा होगा। आने वाले दिनों में हंसडीहा मोहनपुर रेल परियोजना पूरी होने जा रही है। इसका लाभ रेल यात्रियों को मिलेगा।

गोड्डा पिरपैंती रेल परियोजना पर फिलहाल काम नहीं

पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक अरुण अरोड़ा ने कहा कि गोड्डा-पिरपैंती रेल परियोजना पर फिलहाल कार्य होने के आसार नहीं है। कहा कि पहले राज्य सरकार ने 50 प्रतिशत सहयोग पर सहमति दे दी थी, लेकिन अब उसे वापस ले लिया है। ऐसे में इस परियाेजना पर फिलहाल कोई काम नहीं हो सकता। भविष्य में संभावना बनती है तो देखा जाएगा।

Edited By: Deepak Kumar Pandey