जागरण संवाददाता, धनबाद: एक जीजा द्वारा अपनी साली को अच्छे शैक्षणिक संस्थान में दाखिला दिलाने के बहाने धनबाद बुलाकर घर में बंधक बनाने का मामला प्रकाश में आया है। यह खुलासा तब हुआ, जब पीडि़ता के परिजन छत्तीसगढ़ से धनबाद अपनी बेटी को वापस लेने पहुंचे।

सोमवार को आरोपित जीजा जगजीवन नगर निवासी राजू साव ने अपनी साली 19 वर्षीय आरती कुमारी को उसके परिजनों को सौंपने से इन्कार कर दिया। परिजनों के बार-बार मिन्नत करने के बावजूद दमाद राजू साव व परिवार के अन्य सदस्यों ने उन्हें न तो घर में घुसने दिया न ही अपनी बेटी से मिलने दिया। थक हारकर युवती के पिता सरायढेला थाना पहुंचे। थाना में भी उनकी सुनवाई नहीं हुई और उन्हें महिला थाना जाने की सलाह दी गई।

सोमवार को परिजनों ने धनबाद महिला थाना पहुंच मामले की लिखित शिकायत की है। पूछताछ में पुलिस को बताया कि उनकी बेटी की शादी राजू साव से वर्ष 2013 में हुई थी। इसके बाद आरोपित दामाद उनकी छोटी बेटी को अच्छी पढ़ाई करवाने के बहाने अपने साथ धनबाद ले आया। रिश्तेदार होने के कारण परिजनों ने भी बिना किसी संदेह के अपनी बेटी को सौंप दिया, ताकि वह अच्छे संस्थान में पढ़ाई करे।

इसी बीच छोटी बेटी की भी शादी दामाद के चचेरे भाई से तय कर दी गई थी, लेकिन शादी तय होने से आरोपित दामाद राजू साव नाराज था। जब परिजनों ने शादी की बात आगे बढ़ाई तो आरोपित दामाद ने अपनी साली को बंधक बना लिया। उसका कहना है कि वह अपनी साली की शादी नहीं होने देगा। वह उसके साथ ही रहेगी। छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले से धनबाद पहुंचे लड़की के माता-पिता व अन्य रिश्तेदारों ने जब आरोपित दामाद पर बेटी सौंपने का दबाव बनाया तब उसने उनकी बड़ी बेटी (अपनी पत्नी) को जान से मारने की धमकी दी।

माता-पिता से बेटी को नहीं मिलने दे रहा: छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले के अंबिकापुर से धनबाद पहुंचे माता पिता अपनी बेटी से अब तक नहीं मिल पाए हैं। वह उसे मिल कर बात करना चाहते हैं, लेकिन आरोपित उन्हें अपने घर में घुसने नहीं दे रहा, जिसके कारण परिजन थाना का चक्कर काट रहे हैं।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Deepak Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप