संस, बलियापुर : पीएमओ के निर्देश पर झरिया पुनर्वास योजना को लेकर राष्ट्रीय आपदा भू प्रबंधन व गृह मंत्रालय पीएमओ की उच्चस्तरीय टीम ने सोमवार की सुबह क्षेत्र के करमाटांड़, बेलगढि़या पुनर्वास कालोनी का दौरा किया। कालोनी में झरिया के अग्नि व भू धंसान प्रभावित क्षेत्र से बसाए गए लोगों की समस्याओं की जानकारी ली। बेलगढि़या कालोनी में पहुंची टीम में शामिल वरीय पदाधिकारियों ने कालोनी के लोगों से उनकी विभिन्न समस्याओं के बारे में जानकारी ली। कालोनी वासियों ने टीम में शामिल पदाधिकारियों के समक्ष रोजगार की गंभीर समस्या के बारे में बताया। कहा कि रोजगार नहीं रहने के कारण यहां के युवक अन्य राज्यों हैदराबाद, चेन्नई, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, यूपी, एमपी, छत्तीसगढ़ जाने को मजबूर हैं। उच्च शिक्षण संस्थान के अभाव में बच्चों की पढ़ाई की समस्या है। टीम में शामिल पदाधिकारियों ने कहा कि बच्चों की शिक्षा बाधित नहीं होगी। बच्चों को शिक्षा देना सरकार का दायित्व है। कालोनी में स्थित आरएसपी कालेज को अन्यत्र स्थानांतरण नहीं करने की भी मांग लोगों ने की। अस्पताल, पानी, बिजली, गंदगी की समस्याओं के साथ-साथ पाइपलाइन व पानी टंकी में लीकेज होने आदि समस्याओं को भी रखा। यातायात को लेकर शाम के बाद यहां उत्पन्न होनेवाली समस्याओं से भी टीम को अवगत कराया। टीम में शामिल पदाधिकारियों ने इस संबंध में लिखित शिकायत जिले के उपायुक्त व जेआरडीए के पदाधिकारियों से करने को कहा।

टीम में राष्ट्रीय संपदा विभाग के अवर सचिव हुकुम सिंह मीणा, बीसीसीएल के सीएमडी पीएम प्रसाद, आइआइटी-आइएसएम के प्रो आरएम भट्टाचार्य, कोयला मंत्रालय के आनंदजी प्रसाद, सिदरी अनुमंडल के पुलिस पदाधिकारी अभिषेक कुमार के अलावा कालोनी में रहनेवाली पंचायत की उप मुखिया सीमा देवी, उपेंद्र कुमार सिंह, शंभू वर्मा, करण पासवान, रामविलास पासवान, पोद्दार बाउरी, शांति देवी, चंपा देवी, मंजू देवी, कृष्णा भुइयां, नंदलाल भुइयां, सावित्री देवी, नंदू भुइयां, कपिल देव निषाद, इंद्रदेव साहू आदि थे।

Edited By: Jagran