संवाद सहयोगी, कतरास: कोरोना के संक्रमण काल से थोड़ी राहत क्या मिली है कि रेलवे की कतरासगढ कालोनी में गंदगी का ढेर लग गया है। इस गंदगी को ना सिर्फ जानवर बल्कि मनुष्य भी लांघ कर पार करने को विवश हैं। ऐसे में यहां रहने वाले कालोनी के लोगों का विभाग के अधिकारियों तथा नगर निगम के प्रति आक्रोश बढ़ता जा रहा है। थोड़ी सी बारिश होने के बाद कालोनी की नालियों की गंदी पानी सड़क पर बहने लगती है। मजबूरन लोगों को उस गंदी पानी से होकर आवास जाना पड़ता है।

करीब छह सौ से अधिक आवास वाली इस कालोनी को देखने वाला कोई नहीं। सफाई के नाम पर महज खानापूर्ति की जाती है। ऐसे में कोरोना महामारी की दौर में कालोनी के लोगों को भय सता रही है कि कहीं इसका उनलोगों को खामियाजा ना भुगतना पड़ जाए। कालोनी की आगे और पीछे की नालियां बजबजा रही है और उससे निकलने वाले दुर्गंध से लोगों का जीना दुभर हो गया है। रेलवे के द्वारा कालोनी की सड़क व नालियों की सफाई की अलग व्यवस्था सुनिश्चित कराई गई थी। आज भी वही व्यवस्था है इसके बावजूद यहां की यह सआलम है कि लोग कालोनी की ओर जाना नहीं चाहते हैं।

Edited By: Atul Singh