धनबाद, जेएनएन। पुलिस हिरासत से रामधीर सिंह को छुड़ा लिए जाने के मामले में शनिवार को अनुमंडल न्यायिक दंडाधिकारी शशिभूषण शर्मा की अदालत ने कांड के नामजद आरोपित रामाधीर सिंह के पुत्र शशि सिंह के विरुद्ध गिरफ्तारी का गैरजमानतीय वारंट जारी करने का आदेश दिया है।

सात वर्षों से फरार है शशिः शशि सिंह सुरेश सिंह हत्याकांड का नामजद अभियुक्त है। वह 11 वर्ष से पुलिस की नजरों में फरार है। पुलिस ने 20 मई 12 को इस मामले में शशि को फरार दिखाते हुए आरोप पत्र दायर किया था। 10 अक्टूबर 12 को सत्र न्यायालय ने भी शशि को फरार घोषित कर दिया था। 

रामधीर की हुई पेशी बच्चा सिंह हुए हाजिर : सुनवाई के दौरान रामधीर सिंह को वीसीएस से पेश किया गया। वहीं  बच्चा सिंह व अन्य हाजिर थे। अदालत ने सुुनवाई के लिए अगली तारीख निर्धारित कर दी है। बताते हैं कि 18 दिसंबर को मामला आरोपितों के सफाई बयान के लिए निर्धारित था। 27 नवंवंबर को इस मामले में अभियोजन साक्ष्य बंद करते हुए सभी आरोपितों को सदेह हाजिर होने का आदेश दिया था। आदेश के बावजूद शशि सिंह हाजिर नहीं हुए थे। जबकि अन्य आरोपित हाजिर थे। आरोपित बिजेंद्र सिंह की मृत्यु हो जाने की सूचना अधिवक्ता ने कोर्ट को दी थी।

क्या है मामला :  तीन अक्टूबर 03 को  प्रमोद हत्याकांड में पुलिस रामधीर सिंह को गिरफ्तार कर ला रही थी। इसी दौरान समर्थकों ने जबरन उन्हें छुड़ा लिया था। बच्चा सिंह ने पुलिस को सबक सिखाने की धमकी दी थी। तीन अक्टूबर 2003 को इस मामले में पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज की थी। बाद में मामले की जांच का जिम्मा सीबीआइ को सौंप दिया गया था।

पुलिस के सिर पर काला धब्बाः शशि सिंह की फरारी धनबाद पुलिस के सिर पर काला धब्बा के समान है। कांग्रेस नेता सुरेश सिंह की हत्या के बाद पिछले 11 वर्ष से शशि सिंह फरार हैं। लेकिन पुलिस पकड़ नहीं पाई है। इस बीच शशि सिंह ने शादी भी की। एक बार जब फिर अदालत गिरफ्तार करने का आदेश दिया है तो बड़ा सवाल यह है कि पुलिस पकड़ पाएगी? 

Posted By: mritunjay

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप