सिंदरी, बरमेश्वर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को ओडिशा के तालचर में तालचर फर्टिलाइजर एंड केमिकल लिमिटेड (टीएफसीएल) के अंतर्गत बननेवाले नए उर्वरक संयंत्र की आधारशिला रखी। इसके साथ ही फर्टिलाइजर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया की 2002 में बंद तालचर, ¨सदरी, गोरखपुर, रामागुंडम व ¨हदुस्तान फर्टिलाइजर कारपोरेशन ऑफ बरौनी उर्वरक संयत्रों के पुनरुद्धार का पहला पड़ाव पार कर लिया गया।

प्राकृतिक गैस पर आधारित तालचर उर्वरक संयंत्र के निर्माण में लगभग सात हजार करोड़ की लागत आएगी। तालचर उर्वरक संयंत्र से प्रतिवर्ष 11.75 मिलियन टन यूरिया का उत्पादन होगा। सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी राष्ट्रीय केमिकल एंड फर्टिलाइजर, कोल इंडिया लिमिटेड व फर्टिलाइजर कॉरपोरेशन आफ इंडिया लिमिटेड ने संयुक्त रूप से तालचर फर्टिलाइजर एंड केमिकल लिमिटेड नामक नई कंपनी का गठन किया है। यही कंपनी तालचर मे उर्वरक संयंत्र का निर्माण कराने के साथ संचालन करेगी।

¨सदरी मे नए उर्वरक संयंत्र की आधारशिला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 मई 2018 को रखी गई थी। गोरखपुर और बरौनी उर्वरक संयंत्रों की आधारशिला पिछले साल ही रखी गई थी। रामागुंडम उर्वरक संयंत्र नए उर्वरक संयंत्र के निर्माण की दौड़ में सबसे आगे चल रहा है। ¨सदरी, गोरखपुर व बरौनी उर्वरक संयंत्र का निर्माण नवगठित कंपनी ¨हदुस्तान उर्वरक एवं रसायन लिमिटेड की ओर से किया जा रहा है। सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी नेशनल थर्मल पावर कारपोरेशन, कोल इंडिया लिमिटेड, इंडियन आयल कारपोरेशन लिमिटेड व एफसीआइ ने संयुक्त रूप से ¨सदरी और गोरखपुर के लिए हर्ल का गठन किया है। जबकि एनटीपीसी, सीआइएल, आइओसी व एचएफसी ने बरौनी उर्वरक संयंत्र के निर्माण और संचालन के लिए हर्ल का गठन किया है।

वहीं रामागुंडम मे इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड, नेशनल फर्टिलाइजर लिमिटेड और एफसीआइ की ओर से गठित रामागुंडम फर्टिलाइजर एवं केमिकल लिमिटेड नए उर्वरक संयंत्र का निर्माण व संचालन करेगी। ¨सदरी, गोरखपुर, तालचर, रामागुंडम और बरौनी के हरेक उर्वरक संयंत्रों के निर्माण पर लगभग सात हजार करोड़ रुपये की लागत आएगी। सभी नए उर्वरक संयंत्रों की उत्पादन क्षमता भी लगभग एक समान होगी। भारत सरकार के उर्वरक नीतियों के विशेषज्ञ डॉ. एसकेएल दास ने बताया कि नए उर्वरक संयंत्रों की ओर से उत्पादन शुरू होते ही आयातित उर्वरक पर देश की निर्भरता समाप्त हो जाएगी। भारत यूरिया उत्पादन के मामले में आत्मनिर्भर हो जाएगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप