जागरण संवाददाता, धनबाद : बिजली व्यवस्था सुधार के लिए जो भी संसाधन की जरूरत है वह उसका उपयोग करें। दिक्कत होने पर विभाग को सूचित करें। संसाधन अभाव में काम नहीं रुकना चाहिए। यह बातें झारखंड विद्युत वितरण निगम लिमिटेड धनबाद एरिया बोर्ड के महाप्रबंधक अजीत कुमार ने कही। वे शुक्रवार को मिश्रित भवन में समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। इस दौरान बिजली बिल रीडिग करने वाले एजेंसी को स्पष्ट रूप से सौ फीसदी बिजली मीटर बिलिग करने के लिए कहा। मीटर बिलिग करने वाले उर्जा मित्र को ड्रेस कोड एवं आई कार्ड देने के लिए कहा गया ताकि उपभोक्ताओं को किसी तरह की परेशानी न हो। उन्होंने कहा कि पिछले तीन महीने से जिस उपभोक्ता ने भुगतान नहीं किया है, उनका भुगतान व उनकी समस्या को तुरंत हल करें। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली बिल भुगतान को लेकर मोबाइल वैन संचालित करने का निर्णय लिया गया जिससे ग्रामीणों को बिल भुगतान को लेकर परेशानी न हो। उन्होंने अधिकारियों से स्पष्ट कहा कि बिजली चोरी करने वाले लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें। निगम क्षेत्र में जो भी काम अधूरा पड़ा है, उसको लेकर बिजली विभाग की ओर से वर्क प्लान तैयार दिया जाएगा। जिन उर्जा मित्रों के खिलाफ शिकायत है और अगर यह सत्यापित हो गया है तो उन्हें तुरंत हटाया जाए। बैठक में इस माह धनबाद को 54 करोड़ तो चास सर्किल को 26 करोड़ राजस्व वसूली का लक्ष्य रखा गया। बैठक में चास सर्किल के एसई मुकुल गुरवरे, अभियंता शैलेंद्र भूषण तिवारी, मृणाल गौतम, अमित खालको, सुनील टूटु, क्षेत्र मोहन सहित सभी सर्किल के अधिकारीगण मौजूद थे।

Edited By: Jagran