जागरण संवाददाता, धनबाद: पिछले कई वर्षो से कोल इंडिया में वैधानिक पदों (माइनिंग सरदार, ओवरमैन, सर्वेयर) की बहाली नहीं हो सकी है। ऐसे कई योग्य माइनिंग छात्र हैं, जिनकी बहाली की आस में आयु सीमा खत्म होती जा रही है। लगातार अनुरोध और अनुनय विनय का भी असर नहीं पड़ रहा है। सभी माइनिंग के छात्रों का भविष्य अंधकार में जा रहा है। विभिन्न पदों में बहाली को लेकर सोमवार को माइनिंग इंजीनियरिंग के छात्र विशाल संख्या में बीसीसीएल मुख्यालय कोयला नगर के समक्ष शांतिपूर्ण महाधरना देंगे। इसका उद्देश्य सिर्फ प्रबंधन तक अपनी बात पहुंचाना है। माइनिंग छात्रों का कहना है कि हजारों अभ्यर्थियों की उम्र सीमा खत्म होने के पड़ाव पर है। माइनिंग के महामहिम DGMS के निर्देश के बावजूद भी किसी तरह की कार्यवाही न तो कोल इंडिया प्रबंधन की तरफ से देखी जा रही है और न ही सरकार की तरफ से। इसलिए वर्तमान परिस्थिति को देखते हुए हम सभी माइनिंग के छात्र धरना प्रदर्शन को विवश हैं। धरना प्रदर्शन कार्यक्रम सुबह 10:30 बजे होगा।

माइनिंग छात्रों की मांग

- 15 दिनों के अंदर ओवरमैन, माइनिंग सरदार की वेकैंसी निकाली जाए।

- कोरोना काल में बर्बाद हुए दो साल की वजह से उम्र सीमा 30 वर्ष से बढ़ाकर 32 साल की जाए। जिससे अधिक से अधिक छात्रों को परीक्षा में बैठने का मौका मिल सके।

- वैधानिक पदों की बहाली में सीटों से सम्बंधित भ्रष्टाचार को तत्काल खत्म किया जाए और पारदर्शिता तरीके से परीक्षा ली जाए, ताकि मेरिट वाले विद्यार्थी को भरपूर मौका मिल सके।

Edited By: Atul Singh