गोड्डा, जेएनएन। झारखंड में जबसे हेमंत सोरेन के नेृत्व में सरकार बनी है बालू माफिया का मनोबल सावतें आसमां पर है। बालू माफिया का विरोध करने का मतलब जान से हाथ धोना है। इस तरह की आए दिन संताल परगना क्षेत्र में घटनाएं घट रही हैं। गोड्डा के पाैड़ेयाहाट में तो सनसनीखेज घटना घटी है। पोड़ैयाहाट प्रखंड के देवंधा गांव में बालू माफिया ने राजकुमार यादव नामक किशोर की पीट कर हत्या कर दी। पिटाई में गौतम कुमार, मुकेश यादव एवं मृत्युंजय यादव भी घायल हुए हैं। राजकुमार के चाचा नवल किशोर महतो ने मोती ओपी में देवंधा के मुकुंद चौधरी, अशोक चौधरी, निलेश चौधरी, सुबोध चौधरी, गौतम चौधरी एवं प्रीतम चौधरी के खिलाफ हत्या एवं मारपीट की प्राथमिकी दर्ज कराई है।

पीट-पीटकर मार डाला

नवल किशोर ने बताया कि नदी के किनारे उन लोगों की जमीन है। माफिया नदी से बालू निकाल रहे थे। उन लोगों की जमीन से होकर बालू जा रहा था। उन्हें मना किया गया कि बालू का उठाव नहीं करें। इस पर वे भड़क गए। इसके बाद लाठी-डंडा, गड़ासा एवं भाला लेकर आए और पिटाई करने लगे। राजकुमार को उन लोगों ने पीट कर मार डाला। गौतम, मृत्युंजय और मुकेश को भी पीटा।

दिव्यांग माता-पिता की बिगड़ी तबीयत

राजकुमार के माता-पिता दिव्यांग हैं। पिता बबलू यादव की मानसिक स्थिति कमजोर है तो माता रीता देवी को कान से कम सुनाई पड़ता है। परिवार का बड़ा लड़का होने के नाते राजकुमार पर अधिक जवाबदेही थी। एक छोटा भाई है। राजकुमार की मौत के बाद स्वजन का रो-रोकर बुरा हाल हो गया है। गांव में भी मातम छा गया। उनमें इस कदर आक्रोश भी है कि बालू माफिया से सीधे निपटने की बात कह रहे हैं।

माध्यमिक परीक्षा के लिए भरा था फॉर्म : राजकुमार ने बुधवार को माध्यमिक परीक्षा के लिए फॉर्म भरा था। माली हालत खराब होने के बावजूद वह पढऩा चाहता था। वह गांव में मजदूरी करता था। जो आमदनी होती थी, उससे पढ़ाई भी कर रहा था।

देवंधा में बालू के अवैध उठाव में टकराव हुआ। इसमें किशोर की हत्या कर दी गई। छह लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। जल्द हत्यारों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उन्हें कड़ी सजा दिलाई जाएगी।

-अमित अभिषेक, ओपी प्रभारी, मोतिया, गोड्डा

Edited By: Mritunjay

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट