जासं, झरिया : सेल के टासरा देवप्रभा आउटसोर्सिंग परियोजना में कार्यरत 10 असंगठित मजदूरों ने काम से बैठाए जाने पर सोमवार को प्रदर्शन कर विरोध जताया। मासस व टासरा विस्थापित मोर्चा के बैनर तले मजदूरों ने दो घंटे तक कोयला उत्पादन का काम बाधित कर दिया।

प्रबंधन के खिलाफ खूब नारेबाजी की। सभी मजदूर प्रबंधन से तुरंत कार्य पर रखने की मांग कर रहे थे। मजदूरों को कहना है कि एक पखवारा पूर्व काम से हम लोगों को जबरन बैठाया गया है। प्रबंधन की ओर से कहा गया था कि एक जनवरी से काम पर रख लिया जाएगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। प्रबंधन ने वार्ता भी नहीं की। इसके विरोध में मजदूरों ने आज आउटसोर्सिंग परियोजना का काम अनिश्चितकालीन के लिए ठप कर दिया। मजदूरों का कहना है कि जब तक प्रबंधन की ओर से हम लोगों से सकारात्मक वार्ता नहीं की जाती है। तब तक आंदोलन जारी रहेगा। मोर्चा के सचिव जीतू सिंह ने कहा कि प्रबंधन 10 मजदूरों को बैठा दिया है। इन्हें काम पर रखने को लेकर मजदूरों की ओर से के आंदोलन किया जा रहा है। जब तक मजदूरों की समस्या का हल नहीं किया जाएगा। तब तक आंदोलन जारी रहेगा। आंदोलन की सूचना पाकर टासरा आउटसोर्सिंग के इंचार्ज एम जेड अहमद ने आंदोलनकारियों से वार्ता की। सोमवार को उच्च अधिकारियों से वार्ता कर समस्या का समाधान करने का आश्वासन दिया। इसके बाद आंदोलनकारियों ने आंदोलन को समाप्त किया। दो घंटे के बाद काम चालू हुआ।

Edited By: Atul Singh